संजय दत्त की ज़िन्दगी विवादों में घिरी और बेहद उतार-चढ़ाव भरी रही है. उनके बुरे वक़्त में एक इंसान था, जो हमेशा उनके साथ खड़ा रहा, संजय दत्त की पत्नी मान्यता. उन्होंने मुश्किल समय में भी संजय का साथ नहीं छोड़ा.

जब वो जेल में थे, मान्यता ने बच्चों का भी ख्याल रखा. शहरार और इकरा संजय दत्त के जुड़वा बच्चे हैं. जब उन्हें जेल भेजा गया, तब दोनों केवल दो साल के थे.

मान्यता ने बताया कि अब संजय पहले से बेहतर स्थिति में हैं और बच्चों के साथ बहुत खुश रहते हैं.

एक इंटरव्यू में मान्यता ने संजय के जेल जाने को लेकर खुल कर बात की. उन्होंने कहा कि वो चाहती हैं कि उनके बच्चों को संजय की ज़िन्दगी के बारे में सब कुछ पता हो. इस वक़्त उन्हें सब कुछ बताना सही नहीं होगा, लेकिन आगे वो उनसे कुछ छुपाना नहीं चाहतीं.

मान्यता ने कहा, "अभी वो बहुत छोटे हैं और ये समझ नहीं सकते कि क्या हुआ होगा. शहरान के पापा उसके हीरो हैं. वो उन्हें अपना आदर्श मानता है. मुझे बस दो चीज़ों की चिंता होती है. पहली, कहीं ये जानकर बच्चों को सदमा न पहुंचे. हो सकता है वो ये न समझ पाएं कि जो हुआ, वो किन हालातों में हुआ होगा. दूसरी, वो ऐसा भी सोच सकते हैं कि जो उनके पिता ने किया वो कूल था. मैं ये दोनों ही नहीं होने देना चाहती. उन्हें ये पता होना चाहिए कि जो उनके पिता ने किया वो ग़लत था और उसकी उन्हें भारी कीमत भी चुकानी पड़ी है. ज़्यादातर लोगों में अपने कर्मों की ज़िम्मेदारी लेनी की हिम्मत नहीं होती, लेकिन हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे समझें कि क्या हुआ था, क्यों हुआ था, कैसे हुआ था. बस इस वक़्त हम उन्हें ये सब बता कर उनके बचपन पर असर नहीं डालना चाहते.

Source: Missmalini