आये दिन किसी न किसी अख़बार में कहीं न कहीं बलात्कार की किसी घटना का ज़िक्र होता है. इन ख़बरों को पढ़ कर कई बार ऐसा लगता है, जैसे असल मायने में इंसानियत मर चुकी हो, पर दिल्ली में एक शख़्स ने जो किया, उसे देख कर यही कहा जा सकता है कि इंसानियत को मार चुके इंसान ने अब हैवानियत का भी कत्ल कर दिया.

दरअसल, दिल्ली के नारायणा इलाके में एक शख़्स की भूख इस कदर बढ़ गई कि उसने पपी को ही अपनी हवस का शिकार बना लिया. ख़बरों के मुताबिक, टैक्सी चलाने वाले 34 वर्षीय नरेश पर आरोप है कि उसने 25 अगस्त की रात शराब के नशे में एक फीमेल पपी (Jenney) के साथ बलात्कार किया. नरेश की दरिंदगी का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि डॉगी के अंदरूनी हिस्सों से खून निकलने लगा. इसके बाद नरेश ने अपने भाई सुरेश की मदद से एक बैग में Jenney को डाल कर नारायणा नाले के पास फेंक दिया.

इस इलाके में रहने वाले एक पशु प्रेमी अभिषेक कुमार का कहना है कि उसने नोटिस किया कि शाम से Jenney कहीं दिखाई नहीं दे रही. इसके बाद उन्होंने नशे में धुत नरेश को बदहवास सा देखा, जब अभिषेक और इस इलाके के लोगों ने नरेश से सख्ती के साथ पूछताछ की, तो उसने सच्चाई बता दी. इसके बाद वो लोगों को उस जगह भी ले गया, जहां उसे Jenney को छोड़ा था.

Jenney को संजय गांधी एनिमल केयर सेंटर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. पोस्टमॉर्टम में खुलासा हुआ कि Jenney की मौत प्राइवेट पार्ट्स से ज़्यादा खून निकलने की वजह से हुई है.

नरेश पर FIR दर्ज होने के बावजूद वो बाहर घूम रहा है. नरेश की पत्नी का कहना है कि 'वो बहुत भ्रष्ट है. दो लड़कियों की मां और नरेश की पत्नी ने बताया कि हाल ही में उसने मेरा हाथ भी तोड़ दिया था.' नरेश पर जानवर पर अत्याचार करने की भारतीय दंड संहिता सेक्शन 11 के सेक्शन 429 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है.

ये पहला ऐसा मामला नहीं जब किसी ने कुत्ते को निशाना बनाया हो. इससे पहले भी कुत्तों को आसान शिकार समझ कर लोगों ने उनके साथ दरिंदगी दिखाई है.

Source: Storypick