अनुराग कश्यप और विक्रमादित्य मोटवाने वो दो नाम हैं, जिन्होंने वर्तमान हिंदी सिनेमा में एक्सपेरिमेंट की बागडोर संभाली हुई है। ये दोनों सेक्रेड गेम्स (Sacred Games) में साथ आये हैं और नतीजा क्या है, ये सभी जानते हैं. Netflix की पहली ख़ालिस भारतीय ओरिजिनल सीरीज़, Sacred Games तहलका मचा चुकी है. ज़बरदस्त एक्टिंग के साथ दमदार डायलॉग इस सीरीज़ की जान हैं. शो के अलावा इसके म्यूज़िक और शो के नाम के बारे में भी लोग बात कर रहे हैं.

सेक्रेड गेम्स के हर एपिसोड को एक नए नाम और नए चिन्ह के साथ रिलीज़ किया गया है. यही लोगों के कोतूहल का विषय है कि, आख़िर ऐसा क्यों किया गया और इनका मतलब क्या है.

इस सवाल का जबाव दिया है सेक्रेड के गेम्स के टाइटल सीक्वेंस डारेक्टर विजेश राजन ने, जो Netflix की अगली वेब सीरीज़ Ghoul के वीएफएक्स सुपरवाइज़र भी हैं.

एपिसोड 1: अश्वत्थामा

महाभारत काल में गुरू द्रोणाचार्य के पुत्र थे अश्वत्थामा, जिन्हें श्रीकृष्ण ने इस दुनिया के ख़त्म होने तक जीने का श्राप दिया था. विजेश राजन के अनुसार, इसके पहले एपिसोड में गायतोंडे खु़द को अश्वत्थामा बुलाता है. क्योंकि जब एक-एक कर उसके सारे सगे संबंधी मर रहे होते हैं, वो जीवित रहता है. आगे के सभी एपिसोड में उसकी आवाज़ सुनाई देती है, जो इस बात का प्रतीक है कि वो अमर है.

एपिसोड 2: हलाहल

समुद्र मंथन के दौरान हलाहल विष निकला था, जिसे भगवान शिव ने पीकर सृष्टी की रक्षा की थी. इसे आप मुंबई शहर पर बायोकेमिकल हमले के ख़तरे से जोड़ सकते हैं, जो इस सीरिज़ के आख़िर में दिखाया गया है.

एपिसोड 3: आतापी-वातापी

आतापी-वातापी दो दैत्य थे, जो राहगीरों को खाने का लालच देकर उन्हें खा जाते थे. विजेश के अनुसार, इसे सीरीज़ के किरदार बंटी से जोड़ सकते हैं. जो गायतोंडे को जातिगत हिंसा में कूदने को मजबूर करता है और बाद में उसकी मौत का कारण बनता है.

एपिसोड 4: ब्रह्महत्या

इंद्र ने एक बार विश्वरूप नाम के एक ब्राह्मण का वध कर दिया. इससे उन्हें ब्रह्महत्या का दोष मिला, जिसे 1 साल तक झेलने के बाद इंद्र ने पृथ्वी, जल, स्त्री और वन में बांट दिया दिया. इसके बदले इन चारों को 1-1 वरदान मिला और इंद्र को ब्रह्महत्या के दोष से छुटकारा.

इसे आप गायतोंडे के उस स्वरूप से जोड़ सकते हैं, जिसमें वो सांप्रदायिक हिंसा का भागी बना, क्योंकि वो भी ख़ुद भी एक ब्राह्मण था.

एपिसोड 5: सरमा

सरमा देवताओं की कुतिया का नाम था, जिसकी सहायता से इंद्र की चोरी हुई गायों का पता चल सका था. इसे सभी कुत्तों की जननी भी कहा जाता है.

इस एपिसोड में कुत्ते का ज़िक्र किया गया है. कैसे ज़ोया के कुत्ते की मौत हो जाती है और वो इसका बदला लेती है. इसके साथ ही सरताज की मां उसे एक कुत्ते की कहानी सुनाती हैं, जिसे उसके पिता तलाशते हैं. इसके बाद ही सरताज अंजलि को धोखा देने को तैयार हो जाता है.

एपिसोड 6: प्रेत कल्प

गरुड़ पुराण में एक अध्याय है प्रेत कल्प, जिसमें बताया गया है कि नरक में जाकर मनुष्य की आत्मा प्रेत बन कर अपने ही कुल के लोगों को कई प्रकार के कष्ट देती है.

छठे एपिसोड में सरताज Bengali Bura केस से खु़द को दोषी ठहराना छोड़ देते हैं. साथ ही अपने साथी कॉन्स्टेबल कालेकर की हत्या करने वाले शख़्स का एनकाउंटर कर देते हैं.

एपिसोड 7: रूद्र

रूद्र भगवान शिव का ही एक रूप है, जिसे संहारक की संज्ञा दी गई है. इसलिए जब भी शिव इस रूप में आते हैं, तो कहीं न कहीं प्रलय आता है.

इस एपिसोड में गायतोंडे के गुस्से को दिखाया गया है. वो अपनी पत्नी की हत्या से नाराज़ है और पूरे शहर से इसका बदला लेने पर तुल जाता है. वहीं मुंबई शहर में हुए बॉम्ब ब्लास्ट से लोग गुस्से में हैं.

एपिसोड 8: ययाति

पांडवों के पूर्वज थे ययाति, जिन्हें समय से पहले ही बुढ़ापा आने का श्राप मिला था. इस श्राप को ययाति ने अपने बेटे पुरू से बदल लिया था.

इस एपिसोड में गायतोंडे अपने तीसरे पिता से मिलता है, जो पहले एपिसोड में हुई गायतोंडे कि मौत का कारण बनता है. ययाति की तरह ही.

ये सारे प्रतीक हर एपिसोड से जुड़े हुए हैं. इनकी कहानी जानने के बात आपको भी पता चल गया होगा कि इस वेब सीरीज़ के हर हिस्से में कितनी मेहनत की गयी है और Thankfully इस मेहनत का फल इन्हें मिल भी रहा है.

All images and Hindu mythological explanations from Plexus Motions Facebook page.