क्रिकेट प्रेमी मैच से इस कदर जुड़ जाते हैं कि उन्हें लगता है कि अगर वो पानी पीने भी उठे तो सारा का सारा खेल उलटा पड़ सकता है. ये विश्वास नहीं घोर अंधविश्वास ही है, क्योंकि न तो ये महारथी स्टेडियम में मौजूद हैं और न ही ये खेल से जुड़े हैं.

सिर्फ़ दर्शक दीर्घा ही नहीं, खेल में पूरी तरह से रमे खिलाड़ी भी बेहद अंधविश्वासी होते हैं. भारतीय क्रिकेटर्स के अति विश्वास की कई कहानियां हमने पढ़ी-सुनी हैं.

Source- News.com.au

क्रिकेटर्स के अंधविश्वास की पराकाष्ठा की लिस्ट में पहले स्थान पर आते हैं, दक्षिण अफ़्रीका के गेंदबाज़, Mkhaya Ntini. 101 टेस्ट मैच में 390 विकेट और 173 वनडे में 266 विकेट लेने वाले Ntini मैच के दौरान अपने साथ एक प्लास्टिक का पैकेट रखते थे जिसमें में गोबर होता था.

यही नहीं, जब Ntini को क्रीज़ पर ऐक्स्ट्रा वक़्त की ज़रूरत होती वो इस पैकेट को किस भी करते थे.

Ntini ने इस मामले में कहा,

मेरे पूरे करियर के दौरान वही पैकेट मेरे साथ था. वो मेरा लकी चार्म था.
Source- Citizen.Co.Za

यही नहीं, Ntini ने इस बात का भी खुलासा किया उन्होंने कई मैचों के दौरान बाथरूम में जाकर अपने हाथों पर पेशाब किया था और उससे अपने चेहरे पर छिंटा भी मारा था.

Mkhaya Ntini दक्षिण अफ़्रिका के एक छोटे से गांव से और काफ़ी गरीब घर से आते हैं. बचपन में सर्दियों में अपने पैरों को गर्म रखने के लिए वो अपने दोस्तों के साथ गोबर पर खड़े रहते थे. ताकि पैरों को गर्माहट मिलती रहे.

हमारा और आपका तो पता नहीं लेकिन कई मशहूर खिलाड़ी भी कुछ बातों पर बहुत गहरा अंधाविश्वास करते हैं.

Source- News.com.au