मुंबई पुलिस पिछले 10 सालों से हर छोटी से लेकर बड़ी घटना की तह तक पहुंचकर गुनाहगारों को आसानी से पकड़ लेती है. इस तहक़ीक़ात के दौरान पुलिस की सबसे वफ़ादार साथी हुआ करती थी हिना. हिना नाम सुनते ही आपके दिमाग़ में कोई लेडी सिंघम की तस्वीर घूमने लगी होगी. तो जनाब हिना कोई लेडी सिंघम नहीं, बल्कि मुंबई पुलिस के डॉग स्कवॉड की सबसे बेहतरीन डॉग सिपाही है. हिना 10 साल की सेवा के बाद 31 अक्टूबर को मुंबई पुलिस से रिटायर हो गई हैं.

Source: indianexpress

दरअसल, हिना ने अपने सूंघने की ताक़त से कई बड़े क्रिमिनल मामलों में मुंबई पुलिस के लिए अहम सुराग जुटाए. ‘हिना’ के अलावा मुंबई क्राइम ब्रांच में अहम भूमिका निभा चुके ‘विकी’ को भी सेवामुक्त किया गया है. विदाई समारोह के दौरान जब ‘हिना’ के कारनामों के किस्से सुनाए जा रहे थे, तो वहां मौजूद सभी पुलिस अधिकारी और कर्मचारी भावुक हो गए.

क्या ख़ासियत है हिना की?

Source: zeenews

भूरे रंग की डॉबरमैन प्रजाति की ‘हिना’ का जन्म साल 2008 में हुआ था, जबकि मात्र 2 महीने की उम्र में ही हिना मुंबई पुलिस के 'श्वान दस्ते' में शामिल हो गई. कुछ महीने की ट्रेनिंग के बाद अपनी शानदार परफ़ॉर्मेंस के कारण हिना मुंबई पुलिस की प्रमुख ‘ट्रैकिंग डॉग’ बन गई. अपने कार्यकाल के दौरान हिना ने कुर्ला के चर्चित 'साइको किलर कांड' के गुनाहगार को पकड़वाने में अहम भूमिका निभाई थी. मुंबई के ख़ार में बुज़ुर्ग दंपती हत्याकांड मामले में भी हिना ने मुंबई पुलिस के लिए अहम सुराग़ जुटाए थे. हिना के नाम सिर्फ़ इतने ही नहीं, बल्कि ऐसी दर्जनों उपलब्धियां दर्ज हैं जिनकी वजह से उसको मुंबई पुलिस की सबसे वफ़ादार सिपाही माना जाता है. इन कारनामों के लिए हिना को कई मेडल भी मिले चुके हैं.

रिटायरमेंट के बाद भी हिना पुलिस लाइन में ही रहेगी

Source: zeenews

अकसर देखा जाता है कि रिटायरमेंट के बाद मुंबई पुलिस के इन डॉग्स को पेट लवर्स अडॉप्ट कर लेते हैं, लेकिन हिना पुलिस परिसर में ही रहेगी, जहां वो अभी तक रहती थी और रिटायरमेंट के बाद पूरी तरह से आराम करेगी.

ये हैं 'हिना’ की उपलब्धियां

Source: mumbailive

1- साल 2010 के चर्चित नेहरूनगर साइको किलर मामले में हिना ने ही केस की गुत्थी सुलझाई थी. इस घटना में साइको किलर छोटी बच्चियों को अपनी हवस का शिकार बनाकर उनकी हत्या कर दिया करता था.

2- साल 2013 मुंबई के धारावी में एक लड़के की लावारिस लाश मिली थी, जिसे पत्थर से कुचलकर मार दिया गया था. हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए हिना की मदद ली गई. हिना ने कुछ ही घंटों में क़ातिल का पता लगा लिया.

3- मुंबई के MRA मार्ग पुलिस स्टेशन में दर्ज़ 15 लाख रुपये की चोरी के मामले में हिना ने सूंघकर उस स्क्रू ड्राइवर को ढूंढ निकाला, जिससे चोरी को अंजाम दिया गया था. इसके बाद आरोपी के पास से 12 लाख रुपये बरामद किये गए थे.

4- मुंबई के भोईवाडा में युवक की हत्या मामले में भी आरोपी तक पहुंचने में हिना ने ही पुलिस की मदद की थी.

5- इसके अलावा भी कई चोरियां, डकैती और अन्य मामलों में भी हिना ने मुंबई पुलिस की मदद की थी.

हिना को बचपन से ट्रेन करने वाले पुलिसकर्मी ने बेहद भावुक होते हुए कहा कि आज से उन्हें हिना के बग़ैर ही काम करना पड़ेगा.

Source: indianexpress