भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और लेडी एडविना माउंटबेटन के कथित लव-अफ़ेयर पर आज़ादी के बाद से काफ़ी कुछ लिखा जा चुका है. मीडिया और इतिहासकारों के अलावा आम लोगों में भी इस अफ़ेयर को लेकर खूब चर्चाएं हुईं है. लेकिन पिछले कुछ सालों में इन संबंधों पर मीडिया या इतिहासकार नहीं, बल्कि लेडी एडविना के परिवार वाले ही नए-नए दावों के साथ सामने आ रहे हैं.

Source: callumgdes

2012 में एडविना की बेटी पामेला ने अपनी ऑटोबायोग्राफ़ी में इस बात का ज़िक्र किया था और अब पामेला के बेटे यानि एडविना के पोते ने भी इस मामले में नए खुलासे किए हैं.

लेडी माउंटबेटन के पोते, एश्ले हिक्स ने इस मामले में अपने ताज़े बयान से एक नया ही एंगल दे दिया है. एश्ले ने दावा किया है कि उनकी दादी का और पंडित नेहरू का आपस में प्रेम संबंध था, लेकिन दोनों के बीच शारीरिक संबंध नहीं थे. एश्ले का दावा है कि इसका कारण नेहरू का नपुंसक होना था.

Source: cdn-blogs.tribune

टेलीग्राफ़ में छपे एक लेख में हिक्स ने दावा किया है कि एडविना और नेहरू के बीच बेहद गहरा, आत्मीय और रोमैंटिक संबंध था. लेकिन नेहरू के नपुंसक होने के कारण दोनों कभी शारीरिक संबंध नहीं बना पाए. हिक्स ने दावा किया कि नेहरू, एडविना से मिलने से पहले ही नपुंसक थे.

Source: HindustanTimes

गौरतलब है कि इससे पहले एश्ले हिक्स की मां पामेला माउंटबेटन ने भी इस बात की पुष्टि की थी कि दोनों के बीच प्रेम संबंध थे, मगर पामेला ने नेहरू को नपुंसक नहीं ठहराया था. उनका मानना था, चूंकि दोनों ही बड़ी राजनीतिक हस्तियां थी, ऐसे में उन्हें कभी प्राइवेट समय नहीं मिल पाया.

ये देखना दिलचस्प होगा कि एश्ले हिक्स के इस दावे के बाद देश के राजनीतिक दलों की क्या प्रतिक्रिया होती है.