इलाहाबाद मतलब प्रयागराज में अगले साल जनवरी में कुंभ मेला आयोजित किया जाएगा. यूपी सरकार इसकी तैयारियों में जुटी है. ग्राउंड लेवल पर ही नहीं सोशल मीडिया पर भी कुंभ मेले का जमकर प्रचार किया जा रहा है. इसी बीच इंटरनेट पर एक फ़ोटो धड़ल्ले से शेयर की जा रही है. इस फ़ोटो में हज़ारों टेंट और लाइट्स चमचमाती दिखाई दे रही हैं.

इसे कुंभ मेले की तैयारियों के रूप में दिखाया जा रहा है. इस फ़ोटो को देखकर सोशल मीडिया पर लोग जमकर योगी सरकार की तारीफ़ें करते दिखाई दे रहे हैं लेकिन इस फ़ोटो की सच्चाई जाने बिना.

दरअसल, सोशल मीडिया पर जिस फ़ोटो को कुंभ मेला 2019 की तैयारियों के नाम से शेयर किया जा रहा है वो फ़ेक है. इसका खुलासा इंटरनेट पर वायरल हो रही इस इमेज को गूगल पर रिवर्स सर्च कर के पता चलता है.

वास्तव में ये फ़ोटो सऊदी अरब के मक्का की है. टेंट वाली इस जगह का नाम मीना है. यहां हज यात्रियों के रहने का इंतज़ाम किया जाता है.

Alt न्यूज़ की एक ख़बर के मुताबिक, ये फ़ोटो इंटरनेट पर पहली बार Postcard News ने शेयर की थी. इसे शेयर करते हुए उन्होंने कैप्शन दिया- 'हां ये स्वर्ग है, यहां देखिए कैसे उत्तर प्रदेश का ज़िला प्रयागराज कुंभ मेले के लिए तैयारियां कर रहा है.'

हालांकि, अब ये पोस्ट ऑनलाइन उपलब्ध नहीं हैं, मतलब इसे वहां से हटा दिया गया है लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. फ़ेसबुक से लेकर ट्विटर पर इसे हज़ारों लोगों ने शेयर कर योगी सरकार की तारीफ़ों के पुल बांध दिए थे. यहां तक कि कई न्यूज़ वेबसाइट्स ने भी इस फ़ोटो के साथ कुंभ मेले की तैयारियों की ख़बर चला दी.

Reddit पर भी लोग इस तरह से फ़ेक न्यूज़ फैलाने के लिए योगी और मोदी सरकार को आड़े हाथों ले रहे हैं. यहां पर सरकार के इस कथित एजेंडे की कई यूजर्स ने जमकर लानत-मलानत की है.

थोड़ा और रिसर्च करने पर पता चला कि इस फ़ोटो को thatsmyhajj नाम के इंस्टाग्राम अकाउंट से शेयर किया गया था. यहां पर हज यात्रा से रिलेटेड फ़ोटोज़ शेयर की गई हैं.

ये बहुत ही शर्मनाक है कि मक्का की फ़ोटो को कुंभ मेले 2019 के नाम पर शेयर किया जा रहा है. वैसे ऐसी शर्मनाक हरकत हमारे माननीय करते रहते हैं. कुछ दिनों पहले अहमदाबाद के मेयर बीजल पटेल ने सियोल की एक तस्वीर को साबरमती रिवर फ्रंट का नाम देकर शेयर कर दिया था.