हाल ही में कैग की रिपोर्ट में सामने आया था कि रेल में इस्तेमाल होने वाले कंबलों की हालत बेहद दयनीय है. रिपोर्ट के अनुसार, कई कंबल तो छह महीनों से भी नहीं धुले थे, लेकिन लगता है कि इन खस्ताहाल कंबलों के दिन बदलने वाले हैं.

भारतीय रेलवे ने कंबलों के ज़्यादा बार धुलने और मौजूदा कंबलों को चरणबद्ध तरीके से डिजाइनर और हल्के कंबलों से बदलने के लिए एक कार्य योजना तैयार की है. रेलवे ने राष्ट्रीय फैशन डिज़ाइन संस्थान (निफ्ट) को कम ऊन वाले हल्के कंबल बनाने का काम सौंपा है. पतले, सामान्य पानी से धुलने लायक कंबलों का परीक्षण भी मध्य रेलवे जोन में पायलट परियोजना के तौर पर किया जा रहा है. इसके अलावा इस्तेमाल किए हुए कंबलों को फिर से इस्तेमाल किए जाने से पहले नियमित रूप से साफ किया जाएगा.

Source: India.com

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कंबलों को अधिक धोने और मौजूदा कंबलों को चरणबद्ध तरीके से नए हल्के और मुलायम कपड़े से बने कंबलों से बदलने की योजना बनाई गई है. उन्होंने कहा कि कुछ खंडों में कंबलों के कवर बदलने का काम शुरू कर दिया गया है और कंबलों को अब एक महीने की जगह 15 दिन और एक सप्ताह में धोने का काम शुरू किया जा रहा है.

Source: Aaj tak

उन्होंने कहा कि ‘हमारा लक्ष्य ट्रेनों में हर यात्रा के दौरान साफ़ लिनन के साथ धुले हुए कंबल मुहैया कराना है.’ फिलहाल लिनन के 3.90 लाख सेट रोजाना मुहैया कराए जाते हैं. इनमें दो चादर, एक तौलिया, तकिया और कंबल शामिल है, जो वातानुकूलित डिब्बों में हर यात्री को दिए जाते हैं.

Source: Scoopwhoop