भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तानी छोड़ने वाले महेन्द्र सिंह धोनी को लेकर बल्लेबाज रोहित शर्मा ने एक अहम खुलासा किया है. एक न्यूज एजेंसी को दिए गये अपने इंटरव्यू में रोहित ने बताया कि 'उन्होंने अपने इंटरनेशनल करियर की शुरुआत 2013 में इंग्लैंड के खिलाफ़ की थी, और ये धोनी का ही फैसला था, जिन्होंने रोहित को ओपनिंग करने का न्योता दिया.'

पारी की शुरुआत के बारे में रोहित कहते हैं कि 'धोनी मेरे पास आये और कहा कि तुम कट और पुल अच्छा करते हो, इसलिए मुझे तुम पर भरोसा है, मैं चाहता हूं कि तुम पारी की शुरुआत करो.'

"धोनी ने मुझसे कहा कि हमें किसी की आलोचनाओं और फ़ेल होने से डरने की ज़रूरत नहीं है". शायद उस दौरान धोनी उस बड़े खिलाड़ी को देख रहे थे, जो उस साल इंग्लैंड में होने वाली चैंपियंस ट्रॉफी में खेलने वाला था.

Source: b'Source: PTI'

धोनी के इसी विश्वास के कारण रोहित वन डे मैच में दो बार 200 रनों का आंकड़ा छूने में कामयाब हो पाए, जिसमें 264 रनों का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी शामिल है.

ऐसा नहीं है कि धोनी को कभी आलोचनाओं का सामना न करना पड़ा हो, पर कैप्टेन कूल ने ऐसे समय में बोलने के बजाय बल्ले से बोलना ज़्यादा बेहतर समझा. आज धोनी बेशक कप्तानी को अलविदा कह चुके हैं, पर उन्होंने उस समय भारतीय टीम की बागडोर संभाली, जब टीम दो बड़े खिलाड़ियों के आत्मसम्मान की लड़ाई के बीच फंसी हुई थी. 

Feature Image Source: drcricket