पिछले कुछ दिनों से रूस का एक बच्चा वैज्ञानिकों के लिए हैरत और कौतूहल का विषय बना हुआ है. 20 साल के इस लड़के का दावा है कि वो पिछले जन्म में मंगल ग्रह का निवासी था. वोल्गोग्रैड के रहने वाले बोरिस्का मिप्रियानोविच ने वैज्ञानिकों और खगोलशास्त्रियों को अंतरिक्ष को लेकर अपने अद्भुत ज्ञान के चलते हैरत में डाल दिया है.

बोरिस्का की मां का कहना था कि ये एक बेहद ख़ास बच्चा है और अपने जन्म के कुछ महीनों बाद ही ये कुछ ऐसे विषयों के बारे में बातें करने लगा था जिनके बारे में हमने उसे कभी नहीं बताया था. बोरिस्का की मां ने कहा कि वो एक साल की उम्र में अख़बार की हेडलाइंस पढ़ लेता था, 2 साल की उम्र में पढ़-लिख लेता था और ढाई साल की उम्र तक वो पेंटिंग करने लगा था.

गौर करने वाली बात ये है कि बोरिस्का काफी छोटी उम्र से ही एलियंस और उनकी सभ्यता को लेकर खुलासे करता रहा है. बोरिस्का के मुताबिक, लगभग 7 फ़ुट लंबे Martians आज भी मंगल ग्रह पर रहते हैं और वो सांस लेने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड का इस्तेमाल करते हैं. उसने कहा कि मंगल पर हुए न्यूक्लियर युद्ध के चलते वहां सभ्यता काफी हद तक अस्त व्यस्त हो गई है.

उसने ये भी बताया कि ये Martians अमर हैं और 35 साल के होने के बाद उनकी उम्र बढ़नी बंद हो जाती है. ये लोग ब्रह्माण्ड का चक्कर लगाने में भी सक्षम हैं. बोरिस्का ने लगातार ये दावा किया कि वो एक Martian पायलट है और पहले भी धरती पर आ चुका है. बोरिस्का का कहना है कि अब भी पृथ्वी पर काफी कुछ खोजा जाना बाकी है और मिस्त्र में मौजूद Great Sphinx को खोलने पर धरती पर मौजूद इंसानों की ज़िंदगी पूरी तरह से पलट जाएगी.

बोरिस्का पर एक डॉक्यूमेंट्री भी बन चुकी है और अपने रहस्यमयी खुलासों के चलते अभी तक इस लड़के के बारे में वैज्ञानिक और खगोलशास्त्री एक निश्चित राय नहीं बना पाए हैं.

Source: Financial Express