जब कभी भी हम किसी फ़ैशन शो के बारे में सोचते हैं, तो ख़ूबसूरत मॉडल्स तड़कते-भड़कते म्यूज़िक के साथ रैंप पर कैट वॉक करती नज़र आती हैं. रैंप पर कई मॉडल्स बारी-बारी से फ़ैशन डिज़ाइनर्स के नए-नए कपड़ों को डिस्प्ले करती हैं. रैंप के दोनों ओर बैठे लोग मॉडल्स के आने और जाने के स्टाइल पर ज़ोरदार तालियों से उनका स्वागत करते हैं. हमने तो फ़ैशन शो के बारे में आज तक कुछ ऐसा ही देखा और सुना था.

Source: footwearnews

लेकिन सऊदी अरब के लोगों ने एक ऐसा फ़ैशन शो देखा है, जहां रैंप पर ख़ूबसूरत मॉडल्स के बजाय ड्रोन से कपड़ों को डिस्प्ले किया गया. दरअसल, सऊदी अरब में महिला मॉडल्स को किसी फ़ैशन शो में जाना सख़्त मना है. इसलिए इस फ़ैशन शो के दौरान डिज़ाइनर्स को मज़बूरन अपने कपड़े डिस्प्ले करने के लिए मॉडल्स के बजाय ड्रोन का सहारा लेना पड़ा. इन्हें देखकर ऐसा लग रहा था जैसे कोई भूत चल रहा हो.

Alaraby की रिपोर्ट के मुताबिक़, पिछले महीने सऊदी अरब में रियाद फ़ैशन वीक उद्घाटन समारोह के दौरान दर्शक के तौर पर सिर्फ़ महिलाएं शामिल थीं. जबकि पुरुष डिज़ाइनरों को ख़ुद के शो पर भी बैकस्टेज की अनुमति नहीं थी.

सऊदी अरब हमेशा से ही अपने सख़्त नियमों के लिए जाना जाता है. यहां के लोगों के पास भले ही आज दौलत-शौहरत सब कुछ हो. लेकिन महिलाओं के प्रति सोच आज भी सौ साल पुरानी है. 21वीं सदी में जीने वाले सऊदी के लोग आज भी महिलाओं को समाज में बराबर का दर्ज़ा देना अपनी शान के ख़िलाफ़ समझते हैं.

Source: outlookpakistan

जबकि आयोजकों का कहना था कि रमज़ान का महीना है इसलिए मॉडल्स के बजाय ड्रोन का सहारा लेना पड़ा. लेकिन लोगों को उनका ये आइडिया बिलकुल भी पसंद नहीं आया. शो के दौरान आधे से ज़्यादा हॉल खाली पड़ा था. इससे ये साफ़ होता है कि टेक्नोलॉजी इंसान से कभी जीत नहीं सकती.

इस तरह के अनोख़े फ़ैशन शो को देखने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने इसकी ख़ूब चुटकी ली.