सेल्फ़ी कल्चर की क्रूरता ने एक बार फिर अपना घिनौना रूप दिखाया है. बेंगलुरू में एक छात्र तड़पते हुए डूब कर मर गया लेकिन उस दौरान उसके सभी दोस्त ग्रुप सेल्फ़ी लेने में व्यस्त थे.

17 साल का विश्वास जयानगर के नेशनल कॉलेज का छात्र था. रिपोर्ट के मुताबिक, प्रोफेसर के साथ करीब 25 छात्रों का समूह शहर के बाहरी इलाके में पिकनिक पर गया था. इसी दौरान छात्रों का एक तालाब में नहाने का कार्यक्रम बन गया और उसी दौरान विश्वास डूब गया. इसके बाद ये सभी लोग एक मंदिर देखने निकले. इसी दौरान छात्रों ने नोटिस किया कि विश्वास उनके साथ नहीं है.

Source: Hindustan Times

बाद में एक छात्र ने फ़ोटो खंगाली तो ग्रुप सेल्फी में विश्वास पीछे तालाब में डूबता नजर आ रहा था. इसके बाद छात्रों ने स्थानीय पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट की. पुलिस ने गोताखोरों के साथ तालाब में खोजबीन की तो थोड़ी देर बाद विश्वास का शव बरामद हो गया. कॉलेज प्रशासन ने इस घटना की जांच की बात कही है. वहीं छात्र के पिता ने कॉलेज प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है. उनका यह भी दावा है कि एफआईआर दर्ज करने के बावजूद पुलिस कॉलेज प्रशासन पर कार्रवाई नहीं कर रही.

पुलिस के मुताबिक विश्वास के डूबने के दौरान छात्र कैमरे में देखते रहे और उनके पीछे ही विश्वास पानी में डूब गया. दोपहर 3.30 बजे विश्वास के शव को पानी से बाहर निकाला गया, जिसके बाद उसके माता-पिता को घटना की जानकारी दी गई. विश्वास के माता-पिता ने घटना के लिए कॉलेज प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज की है. साथ ही साथ विश्वास का परिवार भी कॉलेज प्रशासन के ख़िलाफ़ धरने पर बैठ गया है.

Source: India Today

पुलिस ने शिकायत दर्ज कर ली है और अस्वाभाविक मृत्यु का मामला दर्ज किया है. पुलिस ने कहा कि दल के साथ गए एनसीसी कैडेट्स अभी भी सदमे में हैं, जिसके कारण उनसे पूछताछ नहीं की जा सकी है. वहीं कॉलेज प्रबंधन द्वारा भी आंतरिक जांच के लिए टीम का गठन किया गया है. सेल्फ़ी कल्चर के चलते दुनिया में कई लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं. भारत यूं भी सेल्फ़ी के चक्कर में हुए हादसों के मामले में अव्वल नंबर पर बना हुआ है. इसी साल जुलाई में नागपुर में भी सेल्फी के चलते एक हादसे में 10 छात्र डूब गए थे.

Source: Times of India