बड़े दिल वाला किसे कहते हैं ये कोई सूरत के हीरा व्यापारी सावजी भाई ढोलकिया से सीखे. सूरत के डायमंड किंग सावजी भाई हर साल की तरह इस साल भी दिवाली बोनस को लेकर चर्चा में हैं. सावजी भाई इस बार अपने 600 कर्मचारियों को दिवाली बोनस के तौर पर एक-एक कार दे रहे हैं. वो इससे पहले भी अपने कई कर्मचारियों को मकान, कार और ज्वैलरी गिफ़्ट कर चुके हैं.

Source: punjabkesari.in

सावजी भाई ढोलकिया पहली बार साल 2014 में उस वक़्त सुर्ख़ियों में आये थे जब उन्होंने कंपनी के कर्मचारियों के बीच इन्सेंटिव के तौर पर 50 करोड़ रुपये बांटे थे. वहीं साल 2016 में उन्होंने अपने कर्मचारियों को दिवाली बोनस के तौर पर 400 फ़्लैट और 1,260 कारें दी थी. इसके लिए उन्होंने कुल 51 करोड़ रुपए ख़र्च किये थे. जबकि साल 2017 में मौक़े पर सावजी भाई अपने 1200 कर्मचारियों को ड्टसन रेडी-गो कार गिफ़्ट कर चुके हैं.

Source: medium.com

इसी साल अगस्त में कंपनी में 25 सालों से काम कर रहे तीन कर्मचारियों को उपहार स्वरूप मर्सिडीज कार भेंट की थी, जिसमें एक कार की कीमत 1 करोड़ रुपये थी. सावजी भाई ने इन तीन कर्मचारियों को गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के हाथों Mercedes-Benz GLS 350d SUV कार की चाबी दिलवाई थी.

Source: webdunia.com

सावजी भाई ढोलकिया 'हरे कृष्ण डायमंड एक्सपोर्ट कंपनी के कर्ताधर्ता हैं. उनकी कंपनी न सिर्फ़ देश में, बल्कि विदेशों में भी हीरे एक्सपोर्ट करती हैं. 'हरे कृष्ण डायमंड एक्सपोर्ट' कंपनी में तकरीबन 5500 कमर्चारी काम करते हैं. ये कंपनी हीरे और कपड़ों का कारोबार करती है जिसका सालाना टर्नओवर 6000 करोड़ रुपए से अधिक है.

Source: jansatta.com

सावजी भाई का कहना है कि 'उनकी कंपनी शून्य से 6 हज़ार करोड़ सालाना टर्नओवर वाली कंपनी सिर्फ़ हमारे साथ काम करने वाले कर्मचारियों की बदौलत बनी है. कर्मचारियों को उनके प्रदर्शन के आधार पर गिफ़्ट दिए जाते हैं. हम नहीं चाहते कि हमारे साथ काम करने वाले कर्मचारी नाख़ुश होकर काम करें'.

Source: hindinews18

ये बात सच है कि दुनिया की किसी भी प्राइवेट कंपनी में काम करने वाले कमर्चारियों को उनका बॉस या मालिक बोनस के तौर पर शायद ही इतने महंगे गिफ़्ट देता होगा. लेकिन सावजी भाई अपने एम्प्लॉईज़ को को हर साल महंगे गिफ़्ट देते हैं.