बॉलीवुड में कुछ लोग ऐसे हैं जिनकी पहचान ही सिर्फ़ विवादों से है. 'बदनाम हुए, तो क्या हुआ नाम तो हुआ' की तर्ज पर ये लोग इंडस्ट्री में अपनी दुकान चला रहे हैं. कमाल राशिद खान यानि केआरके इसी बिरादरी का एक प्रमुख नाम है. पिछले कुछ सालों में बॉलीवुड की अदाकाराओं पर ओछे ट्विट्स कर नाम कमाने वाले केआरके देश में भरे बैठे कुंठित ट्रोल्स के गुरु हैं.

फ़ेसबुक पर लाखों लोगों द्वारा गाली खाने के बाद भी केआरके जैसे लोगों का पॉपुलर होना दिखाता है कि सोशल मीडिया के दौर में नकारात्मक विवादों का दामन थामकर भी लोकप्रिय हुआ जा सकता है. केआरके और उन जैसे ही कुछ महानुभावों ने इस फॉर्मूले को जमकर भुनाया है.

Source: googleusercontent

हाल ही में केआरके ने अभिनेत्री स्वरा भास्कर की एक फ़िल्म पर भी अपनी आदतानुसार गंदगी फैलाने की कोशिश की. महिला प्रधान फ़िल्मों से अपनी अलग पहचान बनाने वाली स्वरा जल्द ही अनारकली ऑफ आरा में नज़र आने वाली हैं. स्वरा को जहां करन जौहर जैसे लोगों को उनके नए लुक पर बधाइयां मिल रही थी, वहीं केआरके अपने चिर-परिचित अंदाज़ में स्वरा के लिए नकारात्मकता फैला रहे थे.

निर्देशक करण जौहर ने अनारकली ऑफ़ आरा के पोस्टर पर ट्विट कर स्वरा को बधाई दी. उन्होंने कहा कि 24 मार्च को रिलीज होने वाली प्रयोगधर्मी फ़िल्म को ज़रुर देखा जाए, लेकिन इस ट्वीट के बाद केआरके ने लिखा कि न केवल ये फ़िल्म फ्लॉप होगी, बल्कि साल की सबसे बकवास फ़िल्म होगी क्योंकि केआरके ऐसा कहता है.

स्वरा ने भी केआरके को अपने अंदाज़ में जवाब देते हुए कहा कि कुछ लोगों की गाली, दरअसल तारीफ़ होती है. शुक्रिया केआरके! आपकी बुराई इस फ़िल्म के अच्छा होने का कैरेक्टर सर्टीफिकेट है.

गौरतलब है कि कमाल राशिद खान को अपने अजीबोगरीब जातिवादी ट्विट्स की वजह से भी जाना जाता रहा है. पिछले कुछ सालों में वे सोनाक्षी सिन्हा, परिणीति चोपड़ा, लिज़ा हेडन और आलिया भट्ट जैसी कई अभिनेत्रियों पर छींटाकशी कर चुके है. पिछले साल आई फ़िल्म 'शिवाय' और 'ए दिल है मुश्किल' के दौरान भी वो किसी तरह चर्चा में आ गए थे. अपने ज़्यादातर पोस्ट्स और ट्वीट्स पर छीछालेदर करवाने वाले केआरके की दुकान आगे भी चलते रहने की संभावना है.

Feature Image Source: inuth