स्वीडन में एक स्थानीय काउंसलर ने एक प्रस्ताव रखा है, जिसे उन्होंने मॉर्डन रिश्तों के हिसाब से महत्वपूर्ण माना है. उन्होंने कहा है कि ऑफ़िस कर्मचारियों को एक घंटे का पेड ब्रेक मिलना चाहिए जिससे वे अपने पार्टनर के साथ वक्त बिता सकें.

ओवरटोर्निया के 42 साल के सिटी काउंसलर ने कहा कि ऐसी रिपोर्ट्स हैं जो साबित करती हैं कि सेक्स स्वास्थ्य के लिए अच्छा है. उन्होंने कहा कि मॉर्डन समाज में लोग अपने पार्टनर्स के साथ ज़्यादा वक्त नहीं बिता पा रहे हैं. ये केवल सेक्स की नहीं, बल्कि अपने पार्टनर के साथ रिश्तों को बेहतर करने की पहल है.

Source: shutterstock

जाहिर है, कर्मचारियों के समय पर नज़र रखना मुश्किल होगा लेकिन अगर लोगों के बीच इसे अपने पार्टनर के साथ समय बिताने और शारीरिक संबंध बनाने के तौर पर प्रचारित किया जाए, तो मुझे नहीं लगता कि वो एक घंटा कहीं और वक्त बिताना चाहेंगे.

मुस्कोस ने कहा कि मुझे ऐसा कोई कारण नहीं दिखता जिससे इस मोशन को पास न किया जाए. ये लोगों के संबंधों में बढ़ते तनाव को कम करने में कारगर साबित हो सकता है. माना जा रहा है कि मुस्कोस के इस बयान का आधार वो रिपोर्ट भी है, जिसमें स्वीडन के लोगों के ऑफिस घंटों का स्तर गिरता हुआ दिखाया गया है.

Source: Thelocal

स्वीडन, साल 2015 में काम करने के मामले में पूरे यूरोप में काफ़ी निचले पायदान पर था. मुस्कोस का मानना है कि सेक्स से जुड़ा स्ट्रेस कम होने पर लोग बेहतर ढंग से अपने काम पर ध्यान लगा पाएंगे.

Source: lesnaly

एक इकोनॉमिक रिसर्च इंस्टीट्यूट Coe-Rexecode के मुताबिक, स्वीडिश लोगों ने साल 2015 में 1685 घंटे काम किया है. फिनलैंड और फ्रांस के बाद स्वीडन ही वो देश है, जिसने 2015 में सबसे कम काम किया. गौरतलब है कि इस दौरान ब्रिटिश लोगों ने औसतन 1900 घंटे काम किया वहीं जर्मन्स ने 2015 में पूरे साल 1847 घंटे काम किया.

Source: News18