इस दुनिया की सबसे ख़ूबसूरत चीज़ कोई है तो वो है शांति. अगर ज़िंदगी में शांति नहीं है तो फिर जीना नर्क समान ही है. दुनिया का हर इंसान हंसना चाहता है, खेलना चाहता है और बेफ़िक्र होकर घूमना चाहता है, लेकिन आज भी 21वीं सदी में कई देश ऐसे हैं जो आतंकवाद से बुरी तरह से जूझ रहे हैं.

Source: grands-reporters

तुर्की के रहने वाले Ugur ने अपनी इसी परेशानी को शेयर करते हुए कहा कि 'मैं दुनिया के उस देश में रहता हूं जो आतंकवाद से जूझ रहा है. आतंकवाद के कारण मैं आज दुनिया को दो हिस्सों में बंटा हुआ पाता हूं. एक हिस्सा वो है जहां के लोग ख़ुशहाली से जी रहे हैं, जबकि दूसरा वो जहां लोग पल-पल मौत के साये में जी रहे हैं'.

Ugur ने इच्छा जताई कि काश! पूरी दुनिया मुस्तफ़ा कमाल के उन शब्दों का अनुसरण करे जिसमें उन्होंने कहा था कि 'Peace at Home, Peace in the World'.

Source: newindianexpress

आईये देखते हैं कि Ugur ने इन 10 तस्वीरों के ज़रिये दुनिया की उन दो तस्वीरों को किस तरीक़े से पेश किया है?

1- क्या बच्चे, क्या बुज़ुर्ग सब परेशान हैं इधर

2- जो हाल उधर है, वो इधर नहीं

3- हालात चाहे कैसे भी हों, ख़ुश रहना भी एक कला है

4- दुनिया की दो अलग-अलग तस्वीरें

5- कहीं हाथों में क़िताब है, तो कहीं बंदूक

6- मंज़िल एक है, लेकिन डगर कठिन

7- कहीं आंखों में ख़ुशी की चमक, तो कहीं डर का एहसास

8- हमारी नज़र में दुनिया के दो चेहरे

9- कहीं सुकून, तो कहीं मौत के साये से भागने की जद्दोजहद

10- इस दुनिया को बुराईयों से बचाइए

हमें सिर्फ़ इतने से ही ख़ुश नहीं होना चाहिए कि हम ख़ुश हैं, बल्कि हमें दूसरों का दर्द समझ कर उन्हें ख़ुशी से रूबरू करवाना चाहिए.

Source: boredpanda.com