गली बॉय, ये रणवीर सिंह की अगली फ़िल्म होगी. इसे ज़ोया अख़्तर डायरेक्ट कर रही हैं. इस फ़िल्म की कहानी मुंबई के स्लम से निकले दो रैपर्स पर बेस्ड है. फ़िल्म आने वाली 14 फ़रवरी को रिलीज़ होगी, लेकिन उससे पहले ही इस फ़िल्म के पोस्टर्स और रैप ने लोगों के दिलों में इसकी कहानी के लिए उत्सुकता जगा दी है. चलिए आपको बताते हैं मुंबई के दो टैलेंटेड रैपर्स के बारे में, जो अगर न होते तो शायद ये फ़िल्म कभी न बनती.

गली बॉय की टैगलाइन है ‘अपना टाइम आएगा.’ इसी से पता चल जाता है कि इसकी स्टोरी उम्मीद और प्रेरणा से ओत-प्रोत होगी. हो भी क्यों न, मुंबई की चॉल से निकले दो देसी रैपर्स Naezy और Divine की कहानी कोई भी सुने, तो उम्मीदों और प्रेरणा के पंख लागकर उड़ने लगे.

इंडियन रैप और हिप-हॉप को किया रीडिफ़ाइन

इन दोनों को इंडियन रैप और हिप-हॉप को रीडिफ़ाइन करने का श्रेय जाता है. पंजाबी रैप की तरह इनके गानों में गाड़ी, दारू, लड़कियां नहीं बल्कि आम आदमी का संघर्ष, सिस्टम से शिकायत और ग़रीबी का कॉन्टेंट होता है, जिससे आम आदमी आसानी से रिलेट कर सकता है.

भले ही रैप इन्हें एक करता हो, लेकिन दोनों रहते मुंबई के अलग-अलग इलाकों में है. पहले बात करते हैं Divine की, जिनका असली नाम है विवियन फ़र्नांडिस, जो मुंबई के स्लम एरिया जेबी नगर में रहते हैं. मुंबई के इसी स्लम में इनके अंगार बरसाने वाले रैप ने जन्म लिया.

'मेरी गली में' रैप से हुए फ़ेमस

उनके रैप आम आदमी के बीच इतने फ़ेमस हुए कि साल 2011 में बीबीसी के Fire In The Booth Series रेडियो प्रोग्राम में शामिल होने वाले पहले इंडियन रैपर बने. Divine उस वक़्त लोगों की नज़र में आए थे, जब उन्होंने Naezy के साथ मिलकर 'मेरी गली में' रैप तैयार किया था. इससे पहले इनका सोलो रैप जंगली शेर भी यूट्यूब पर हिट हुआ था.

Naezy उर्फ़ नावेद शेख ने 13 साल की उम्र में ही रैपिंग में हाथ आज़माना शुरू कर दिया था. उन्होंने कुर्ला की एक चॉल में फ़ेमस रैपर Sean Paul के Temperature गाने को सुना था. इसे सुनने के बाद उनके मन में इसे दोहराने और फिर से गाने की इच्छा हुई. Naezy ने साइबर कैफ़े से इस गाने का प्रिंट निकलवा कर इसे गाना शुरू किया था.

Naezy पर बन चुकी है डॉक्युमेंट्री फ़िल्म

इस काम में Naezy को मज़ा आने लगा और उन्होंने तय कर लिया कि वो एक रैपर बनेंगे. उनकी प्रैक्टिस जारी थी, लेकिन आउटपुट कुछ नहीं हो रहा था. इससे परेशान होकर उन्होंने अपना ख़ुद का रैप ‘आफ़त’ निकाला. इस रैप सॉन्ग को Naezy ने अपने आइपैड से शूट किया था. ये यूट्यूब पर हिट रहा और उनके पहले ही गाने को रिकॉर्ड 30 लाख Views मिले. इसके बाद इंडियन रैपर Naezy की संघर्ष भरी कहानी 'बॉम्बे 70' नाम की एक डॉक्युमेंट्री में दिखाई गई. फिर इनकी किस्मत ने भी साथ दिया और Alternative Culture Promoter कंपनी Only Much Louder ने इनके साथ कॉन्ट्रैक्ट किया.

Source: TOI

अब वो गली बॉय में मशहूर गीतकार गुलज़ार के साथ मिलकर इसके लिए गीत और डॉयलॉग भी लिख रहे हैं. टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए Naezy ने कहा, 'दिल्ली में बनने वाले धमाकेदार पंजाब रैप में भी विदेशियों की तरह शराब, गाड़ी और लड़कियों का ज़िक्र रहता है. जबकि हमारे बनाए रैप में हम कोशिश करते हैं कि उसमें असली हिंदुस्तान की झलक हो. जैसे भ्रष्टाचार, सरकार, पुलिस द्वारा किए जाने वाले शोषण और ग़रीबी की बात होती है. यही असली हिंदुस्तान है, जिससे एक दिहाड़ी मज़दूर से लेकर लैपटॉप लेकर कॉर्पोरेट जगत में नौकरी के लिए जाता शख़्स भी आसानी से रिलेट कर पाता है.'

इंडियन रैप देश में बदलाव ला सकता है

Source: India TV
उनका कहना है, 'हिप-हॉप ऐसा ज़रिया है, जो हमारे देश में बदलाव ला सकता है. ये ईजाद ही इसलिए किया गया था कि एक नई क्रांति की शुरुआत हो सके. मैं भारतीय लोगों के मन में इंडियन रैप से जुड़े इस भ्रम को मिटा कर इसका नया इतिहास लिखना चाहता हूं.'

इन दो अंडरग्राउंड इंडियन रैपर्स ने रणवीर सिंह को इस फ़िल्म के लिए ट्रेनिंग भी दी है. अब बस इंतज़ार है, तो इनकी कहानी को बड़े पर्दे पर देखने का.

Source: Thebetterindia