लंबे चमचमाते बाल, बला का खूबसूरत चेहरा जिसका झुर्रियों से दूर-दूर तक कोई नाता न हो, परफ़ेक्ट फ़िगर और एक खूबसूरत स्माईल.

फ़ैशन शो से लेकर कई मैगज़ीन कवर्स और फ़ैशन विज्ञापनों में आपको अक्सर इसी तरह की तस्वीरें दिखाई दे जाएंगी, लेकिन ये कमाल सिर्फ़ मॉडल या अदाकारा की ख़ूबसूरती का ही नहीं होता, बल्कि फ़ोटोशॉप के सहारे भी तस्वीरों को बेहतर कर लोगों के सामने एक नकली इमेज प्रस्तुत करने की कोशिश की जाती है.

पर पिछले कुछ समय से फ़ोटोशॉप कल्चर का जमकर विरोध होना शुरू हुआ है. फ़ोटोशॉप्ड तस्वीरें लोगों में असंभव उम्मीदें जगाती हैं और ये उम्मीदें पूरी न होने पर लोग तनाव से घिरने लगते है. ऑस्ट्रेलिया के एक प्रोफ़ेशनल रि-टचर ने भी फ़ोटोशॉप के फ़ैले मायाजाल को सामने लाने के लिए एक व्हीस्लब्लोअर का काम किया है. इस शख़्स ने Vogue, Gucci, Zara जैसी कई प्रतिष्ठित कंपनियों में काम किया है.

Source: Bored Panda

जेम्स इन कंपनियों के लिए काम करते हुए लगभग हर शारीरिक अंगों पर टचअप कर चुके हैं. चाहे वो टांगों को पतला बनाना हो या फिर स्किन को गोरा करना, जेम्स ने हर तरह के प्रयोग किए हैं. वो कहते हैं कि 'सबसे ज़्यादा हैरानी तो तब होती है जब धड़ किसी और मॉडल का होता है और शक़्ल किसी और मॉडल की इस्तेमाल करनी होती है. न केवल ये लोगों के साथ एक तरह से धोखा-धड़ी होती है, बल्कि इससे विज्ञापन की साख पर भी बट्टा लगना तय होता है.'

जेम्स का कहना था कि 'इन तस्वीरों में नज़र आने वाली मॉडल्स का स्तर देख कर लोगों की अपेक्षाएं आसमां छूने लगती हैं और ज़ाहिर है, जब लोगों को इस तरह के असंभव नतीजे नहीं मिलते, तो कई लोगों में डिप्रेशन या हीन भावना घर करने लगती है. जबकि सच्चाई ये है कि ये तस्वीरें ही सच्चाई से कोसों दूर होती हैं.'

एक और डिजिटल रि-टचर का कहना था कि 'फ़ैशन मैगज़ीन में हम जो भी देखते हैं, उनमें से ज़्यादा चीज़ें फ़ोटोशॉप हुई होती है.कई बार हम बॉडी हेयर हटाते हैं, आंखों के नीचे से काले घेरे घटाए जाते हैं, झुर्रियां कम करते हैं, दांतों को चमकदार किया जाता है, आंखें थोड़ी बड़ी की जाती हैं, इसके अलावा भी कई फ़ोटोशॉप तकनीकों द्वारा तस्वीर को परफ़ेक्ट बनाने की कोशिश की जाती है.'

Kerry Washington और Emily Ratajkowski जैसी कई हॉलीवुड मॉडल्स और अदाकाराएं इस मुहिम में आगे आई हैं. फ़ैशन मैगज़ीन में फ़ोटोशॉप की हुई तस्वीरें महिलाओं की Self Esteem पर असर डालती हैं, इन तस्वीरों को जानबूझ कर खूबसूरत बनाया जाता है और दुनिया की कई महिलाओं के बीच इन मैगजींस को पढ़ा जाता है. 

एमिली ने कहा कि 'हर इंसान अपने आप में खूबसूरत होता है. हम सभी को किसी न किसी तरह की इनसिक्योरिटी होती है और सभी इनसे डील करने की कोशिश करते हैं. मैं कभी नहीं चाहूंगी कि फ़ोटोशॉप का इस्तेमाल कर मैं लोगों को ग़लत संदेश प्रदान करूं.'

गौरतलब है कि फ़्रांस में एक नए क़ानून के हिसाब से, अगर किसी भी तस्वीर पर फ़ोटोशॉप का इस्तेमाल किया गया है, तो इसे बताना अनिवार्य होगा. इसके अलावा दुनिया भर में ऑनलाइन इमेजेस का कारोबार करने वाली कंपनी Getty Images ने भी अपनी वेबसाइट पर फ़ोटोशॉप तस्वीरों पर प्रतिबंध लगा दिया है.

आस्ट्रेलिया के इस व्हीस्लब्लोअर की किस्मत अच्छी है. इस खुलासे के बाद भी उसे शायद Julian Assange या एडवर्ड स्नोडेन जैसे क्रांतिकारी व्हीस्लब्लोअर्स की तरह छिपते-छिपाते न फिरना पड़े लेकिन उनके इन खुलासे ने फ़ैशन इंडस्ट्री और फ़ोटोशॉप की परतें ज़रूर खोल कर रख दी हैं.