भारत में क्रिकेट का जुनून कुछ अलग ही होता है. ऐसा जुनून कि लोग एक दूसरे से लड़ने-भिड़ने तक को भी तैयार हो जाते हैं. लेकिन ऐसे लड़ने का क्या फ़ायदा, जिसका कोई मतलब ही ना हो. विपरीत परिस्तिथियों से लड़कर जब कोई इंसान किसी लड़ाई को जीतता है, तो उसका मज़ा ही कुछ और होता है. ऐसी ही एक लड़ाई लड़ी थी भारतीय ब्लाइंड क्रिकेट के स्टार खिलाड़ी दीपक मलिक ने. कुछ क्रिकेट प्रेमियों ने तो ये नाम आज पहली बार सुना होगा.

Source: hindi

स्कूली क्रिकेट से अंतरराष्ट्रीय ब्लाइंड क्रिकेट तक अपनी छाप छोड़ने वाले सोनीपत के भैंसवाल कलां गांव के दीपक मलिक वनडे में सबसे तेज़ हाफ़ सेंचुरी सहित कई रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके हैं. टीम इंडिया में जितने बड़े स्टार विराट कोहली हैं, भारतीय ब्लाइंड क्रिकेट में दीपक मलिक भी उतने ही बड़े स्टार हैं. एक खिलाड़ी के तौर पर दोनों में फ़र्क बस इतना सा है कि विराट को दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमी जानते हैं, जबकि दीपक को कुछ ही लोग जानते हैं.

एक कहावत है अगर दिल में कुछ कर गुज़रने का जुनून हो, तो मंज़िल आसान हो जाती है. दीपक ने भी जुनून, साहस और दृढ़निश्चय की ऐसी ही मिसाल कायम की है. दरअसल साल 2004 में दीवाली के दिन एक हादसे में दीपक ने अपने दोनों आंखों की रौशनी खो दी. डॉक्टर ने उनके परिवार को बता दिया था कि अब उनका बेटा दीपक छह मीटर तक ही मुश्किल से देख पाएगा. ट्रक ड्राइवर पिता पैसे के अभाव में किसी अच्छे हॉस्पिटल में बेटे का इलाज नहीं करा सके और दीपक इस हादसे के बाद गहरे सदमे में चला गया, लेकिन उसके सपने जिंदा रहे. करीब चार साल बाद गांव के जिस स्कूल में वह पढ़ने जाता था, वहीं के एक शिक्षक ने दिल्ली के ब्लाइंड स्कूल के बारे में बताया और पिता ने दीपक का वहां दाखिला करा दिया. यहां से शुरू हुई दीपक के संघर्ष की कहानी.

पहली बार दृष्टिहीनों को क्रिकेट खेलते हुए देखा

Source: inextlive

दीपक बताते हैं कि जब वो ब्लाइंड स्कूल गए तो देखा कि वहां नेत्रहीन बच्चे भी क्रिकेट खेल रहे हैं. उनके मन में भी फिर से क्रिकेट खेलने की इच्छा जाग उठी. स्कूल के ही एक टीचर से पूछा कि क्या दृष्टिहीन बच्चे भी देश के लिए खेल सकते हैं? टीचर की उस हां की वजह से उसने क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया और कुछ समय बाद ही दीपक स्कूल की टीम में सलेक्ट भी हो गया.

लगातार प्रैक्टिस से बन पाया बेहतर खिलाड़ी

Source: inextlive

दीपक ने बताया कि स्कूल की टीम में सलेक्ट होने के साथ ही उसने क्रिकेट के अपने इस जुनून को दोगुना कर दिया. जब रात में स्कूल के सभी बच्चे सो जाते थे, तो वो अकेले दीवार पर बॉल मारकर प्रैक्टिस किया करता था और ग्राउंड पर भी अकेला ही खेला करता था. इस लगन को देखकर सभी उसकी हौसला अफ़ज़ाई करते थे. साल 2009 -10 में स्कूल की टीम बनाई और वर्ष 2012 में हरियाणा की टीम से खेलने का मौका मिल गया, फिर 2013 में नेशनल टीम में जगह पक्की की.

वर्ल्‍ड कप, टी-20 व एशिया कप में टीम को बना चुके हैं चैंपियन

Source: mid

भारतीय ब्लाइंड क्रिकेट में दीपक इस समय एक बड़ा नाम बन चुके हैं. वर्ल्‍ड कप 2018 में भारत को वर्ल्ड चैंपियन बनाने में दीपक ने अहम योगदान दिया. इसके अलावा दीपक ने टीम को एशिया चैंपियन और टी-20 चैंपियन बनाने में भी अहम योगदान दिया. जनवरी में खेले गए वर्ल्‍ड कप में दीपक एक बार भी आउट नहीं हुए और फ़ाइनल में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ नाबाद 179 रनों की पारी खेलकर भारत को चैंपियन बनाया. उनको शानदार बल्लेबाज़ी के लिए मैन ऑफ़ द सीरीज़ से भी नवाजा गया. दीपक को 2014 के वर्ल्‍ड कप में भी बेस्ट प्लेयर का अवार्ड मिल चुका है.

वनडे में सबसे तेज़ हाफ़ सेंचुरी का रिकार्ड

Source: geosports360

दीपक मलिक ने बताया नवंबर 2014 में साउथ अफ्रीका के केपटाउन में हुए वर्ल्ड कप में टीम इंडिया की ओर से खेलते हुए उन्होंने वनडे का सबसे तेज़ अर्धशतक जड़ा. जबकि सेमीफाइनल में श्रीलंका के खिलाफ़ उन्होंने 17 गेंदों पर 51 रनों की रिकॉर्ड पारी खेली. इतना ही नहीं फ़ाइनल में भी उन्होंने ऑलराउंड प्रदर्शन (65 रन और दो विकेट) करते हुए टीम को वर्ल्ड कप दिलाने में अहम योगदान दिया.

सरकार से नहीं मिलीं कोई आर्थिक मदद

Source: twitter

दीपक बताते हैं कि भारतीय क्रिकेट के लिए इतनी उपलब्धि और अंतरराष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी होने के बाद भी हरियाणा सरकार ने आज तक किसी भी प्रकार की आर्थिक मदद नहीं की. उनकी आर्थिक स्थिति बेहद ख़राब है, बावजूद इसके सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही, जबकि दीपक देश का प्रतिनिधित्व करते हैं. सरकार से मदद या कोई नौकरी की आस तो दूर की बात, वर्ल्‍ड कप जीतने के बाद सरकार का कोई नुमाइंदा उन्हें बधाई तक देने तक नहीं आया.

दीपक जैसे प्रतिभावान खिलड़ियों की अनदेखी और खेलों को लेकर बड़े-बड़े दावे करने वाली सरकार ब्लाइंड क्रिकेट को भुलाए बैठी है. सरकार को इस ओर ध्यान देना होगा, तभी दीपक जैसी प्रतिभाएं सामने आ पाएंगी.

Source: inextlive