दुनिया भर के धर्मों के लिए अंतरिक्ष एक समस्या की तरह रहा है. ज़्यादातर धर्म और मान्यताएं हज़ारों साल पुरानी हैं. इन मान्यताओं के हिसाब से आज भी यूनिवर्स हमारे ग्रह के इर्द-गिर्द ही घूमता है, लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा कुछ नहीं है. समुद्र रूपी ब्रहांड में पृथ्वी महज एक बूंद की तरह है. ऐसे में कई धर्मों की मान्यताएं भरभरा कर गिर गई हैं.

लेकिन क्या हो अगर मनुष्यों से ज़्यादा प्रगतिशील और बेहतर प्रजाति मौजूद हो? क्या इन एलियंस से मिलने ईश्वर पहुंचता है? क्या भगवान का भी कोई ग्रह है? क्या परमात्मा एलियंस को मनुष्य जाति से बेहतर मानता है? विज्ञान और तकनीक के आगमन के बाद से दुनिया केे कई धर्म इन्हीं तरह के सवालों से जूझ रहे हैं और अपने-अपने तरीके से इन सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश कर रहे हैं.

Catholicism: एलियंस समाज की सच्चाई है

वैटिकन के चीफ़ एस्ट्रोनॉमर फ़ादर जोस फ़्यूंस के मुताबिक, हम एलियन की खोज से कुछ ही कदम की दूरी पर हैं. इसके अलावा एक और एस्ट्रोनॉमर का दावा था कि एलियंस हमारे समाज की सच्चाई है, लेकिन फ़ादर फ़्यूंस का ये भी कहना था कि हमसे बेहतर प्रजाति के मिलने का ये मतलब नहीं कि दुनिया में दो ईसा मसीह हैं और निर्वाण प्राप्ति का मार्ग केवल मनुष्यों के लिए हैं, एलियंस के लिए नहीं.

Mormonism: एडम, इव और परमात्मा सब किसी बाहरी ग्रह से आए हैं

जोसेफ़ स्मिथ का मानना है कि पृथ्वी के अलावा भी दूसरे ग्रहों पर ज़िंदगी है, लेकिन उन्हें नहीं लगता कि वो काफ़िर हैं. जोसेफ़ के मुताबिक, पृथ्वी से कई प्रकाश वर्ष दूर एक ग्रह है जिसका नाम Kolob है. जोसेफ़ के मुताबिक, ये ग्रह दरअसल भगवान का ग्रह है. जोसेफ़ ये नहीं कहते कि भगवान कोई एलियन है, बल्कि वो मानते हैं कि मानव जाति भी एलियंस की कैटेगरी में ही आती है. एडम और इव को जोसेफ़ एलियन मानते हैं और चूंकि मानव प्रजाति इन्हीं दोनों से शुरू हुई है, तो ऐसे में पृथ्वी पर मौजूद हर इंसान परग्रही है.

The Calvary Chapel: यूएफओ एंजेल और मनुष्यों के हाइब्रिड हैं जो पृथ्वी की महिलाओं में दिलचस्पी रखते हैं

एक मेगाचर्च के पादरी के मुताबिक, यूएफ़ओ सच होते हैं और ये इस बात का सबूत है कि ख़त्म होने के कगार पर हैं. मिसलर के हिसाब से यूएफ़ओ की लगातार आती घटनाओं को इग्नोर करना संभव नहीं है. उनके मुताबिक यूएफ़ओ द्वारा कई लोग अपने अपहरण की कहानियां साझा करते हैं. ये दरअसल भविष्य की ग्लोबल गर्वनेंस के लिए किया जा रहा है.

आने वाले समय में कोई इंसान, अपने कनेक्शन का इस्तेमाल कर एलियंस की मदद से पूरे विश्व पर राज करने की कोशिश करेगा और वहीं से धरती के अंत की शुरूआत हो जाएगी. उनका मानना है कि यूएफ़ओ को Nephilim चला रहे हैं. बुक ऑफ़ जेनेसिस के हिसाब से ये इंसानों और परियों का हाइब्रिड है और ये पृथ्वी की महिलाओं को चाहते हैं. इनका मानना है कि बाइबिल में कोडेड मेसेज हैं, जो हमें ये बताते हैं कि ये रहस्यमयी जीव पृथ्वी पर आकर यहां की महिलाओं को रिझाना चाहते हैं.

Judaism: एलियंस की कोई नैतिक ज़िम्मेदारी नहीं है

14वीं शताब्दी में यहूदी फिलोसॉफ़र का मानना था कि Rabbi Hasdai Crescas का मानना था कि ईश्वर महाशक्तिशाली है और इस ब्रह्राण्ड में असंख्य दुनिया मौजूद हैं. दूसरी दुनिया में भी ज़िंदगियां मौजूद हैं लेकिन ज़रूरी नहीं कि ये जीवन हमारे जीवन की तरह ही हो. रब्बी का मानना है एलियंस की कोई मॉरल ज़िम्मेदारी नहीं है और ऐसे में वो कितने भी गुनाह करने के बाद भी परमात्मा के प्रकोप से बचे रहते हैं.

Buddhism: एलियंस मनुष्यों की तरह ही है

दलाई लामा इस मामले में पूरी तरह से अलग राय रखते हैं. उनका मानना है कि एलियंस का अगर अस्तित्व है तो भी हमें उनसे डरने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि वो भले ही हमसे देखने में अलग हों लेकिन वो निश्चित तौर पर हमारी जान को खतरा पहुंचाने वालों में से नहीं है और ऐसे में हमें उन्हें अपना समझकर ही ट्रीट करना चाहिए. अगर हम इन एलियंस को बाहरी के तौर पर देखेंगे तो निश्चित तौर पर लोगों के बीच इन परग्रहियों को लेकर आतंक और भय पैदा होगा जिसके चलते एक Intergalactic यु्द्ध छिड़ सकता है.

Hinduism: यूएफ़ओ रावण का वाहन है

अमेरिका में पैदा हुए एक हिंदू स्टीफ़न नैप मानते हैं कि इन यूएफ़ओ को और कोई नहीं बल्कि रावण ऑपरेट कर रहा है. नैप के मुताबिक, आकाश में मौजूद रहस्यमयी UFO विमान या रथ हो सकते हैं और कुछ हिंदू मान्यताओं के अनुसार, भगवान ब्रह्रमा ने भी इन विमानों का निर्माण किया है ताकि दुनिया के उपदेवता हवा में यात्रा कर सकें. क्नैप का मानना है कि रावण के ये UFO मरकरी वोर्टेक्स इंजन से लैस है जिसके चलते ये आकाश में बेहद तेज़ी से घूमते हैं. जितने भी लोग एलियंस द्वारा किडनैप होने का दावा करते हैं, वो दरअसल साबित करते हैं कि आज भी ये Demigods पृथ्वी की यात्रा करने आते हैं.

Shia Islam: मसीहा स्पेसशिप में आएगा

शिया मुस्लिमों का मानना है कि एक पवित्र इमाम जिसका नाम माहदी है धरती पर प्रकट होगा, दुनिया के अनैतिक मसीहाओं को हराएगा और कयामत के दिन तक मुस्लमानों पर राज करेगा. Ayatollah Naser Makarem Shirazi के मुताबिक, माहदी एक बला की तेज़ी से प्रकाश की गति से चलने वाले एक एयरक्राफ़्ट में आएगा और दुनिया भर के सैटेलाइट्स की मदद से खुफ़िया कैमरों का जाल बिछा देगा.

इन कैमरों से क्रिमिनल्स को मॉनीटर किया जाएगा. घरों की दीवारों से साउंड वेव्स तक को डिटेक्ट कर पाना मुमकिन होगा. तो अगर आपको कोई स्पेसक्राफ़्ट दिखाई पड़ता है तो समझ लीजिए ये माहदी का आगमन है.

Catholicism: मानवों से बेहतर प्रगति कर चुके हैं एलियंस

फ़ादर Balducci का मानना था कि यूएफ़ओ लगातार धरती पर आते रहते हैं. उन्होंने कहा कि बेहतर होती तकनीक के चलते हमने कई ऐसे मौके देखे हैं जिनसे साफ़ हुआ है कि एलियंस का अस्तित्व है. Balducci के मुताबिक, एलियंस के पास ऐसी टेक्नोलॉजी मौजूद है जिससे वो पूरे ब्रह्मांड में बहुत तेजी से घूम सकते हैं और कुछ ऐसी प्रगति हासिल कर चुके हैं जिनकी मानवों द्वारा अभी बराबरी नहीं की जा सकती है.

Young Earth Creationism एलियंस का अस्तित्व कोरी कल्पना है

एक यहूदी केन हैम के मुताबिक, एलियंस के बारे में ज़्यादातर बातें अफ़वाह हैं. केन का मानना है कि यूनिवर्स केवल 6000 साल पुराना है और ये मानना कि इस यूनिवर्स में एलियंस मौजूद हैं, ये केवल कुछ लोगों का ग़लत प्रौपेगेंडा है. अगर परजीवी लाइफ़ मौजूद भी है तो भी उन्हें नर्क की ही प्राप्ति होगी. हैम का कहना है कि मोक्ष की प्राप्ति केवल उन्हीं के लिए है, जो एडम के वंशज हैं. ऐसे में अगर मानवों के अलावा भी कोई दूसरी तरह की सभ्यता हैं तो भी उनके लिए नर्क के द्वार ही मौजूद होंगे और अगर हम इन एलियंस को खोज भी निकालते हैं, तो भी उनके लिए निर्वाण के रास्ते खोलना नामुमकिन होगा. देखा जाए तो एलियंस एक तरह से Cosmic Joke हैं जिनकी उत्पत्ति केवल संघर्ष के लिए हुई है.

Source: Listverse