भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाले क्रिकेट मैचों का रोमांच चरम सीमा पर होता है. 80-90 के दशक में तो सड़कें खाली हो जाती थीं, टीवी फोड़ दिए जाते थे और जीने-मरने की बात आ जाती थी. गावस्कर-इमरान आमने-सामने हों या गांगुली-शोएब और सचिन-अकरम की भिड़ंत. सालों से लोगों ने इस भिडंत को खूब इंजॉय किया है. शायद यही कारण है कि भारत पाक के मैच में होने वाला हर किस्सा यादगार बन जाता था. लेकिन इस किस्से के बारे में शायद क्रिकेट के खास प्रशंसकों को भी ना पता हो.

Source: wisdenindia

क्रिश श्रीकांत बैटिंग कर रहे हैं और इमरान खान बॉल फ़ेंकते हैं. बॉल श्रीकांत के पैड पर लगती है और इमरान की ज़ोरदार अपील पर अंपायर उंगली उठा देता है. वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि जब अंपायर अपनी उंगली उठा ही रहा था, उसी दौरान श्रीकांत अपने बैट से उन्हें इशारे के लिए मना कर रहे थे, मानो कह रहे हो कि मैं आउट नहीं हूं, गेंद पैड के ऊपरी हिस्से पर लगी है. पर कमान से छूटा हुआ तीर और अंपायर की उठी उंगली कभी रुकती है भला! कुछ ऐसा ही यहां पर हुआ और श्रीकांत इस फ़ैसले से बेहद निराश दिखाई पड़े. बल्ला हाथ से उछाल दिया और ऐसी प्रतिक्रिया दी जैसी आपने इससे पहले गली क्रिकेट में बच्चों के आउट होने पर ही शायद देखी होगी.

Source: pbs.twimg

लेकिन तभी कुछ अनोखा हुआ. इमरान खान ने श्रीकांत को वापस बुलाया. अब ये श्रीकांत की अत्यंत निराशाजनक प्रतिक्रिया थी या इमरान का बड़प्पन, अंपायर से बात कर श्रीकांत को वापस बुला लिया गया. क्रिकेट के इतिहास में ऐसा शायद पहली बार हुआ था कि किसी विपक्षी टीम के खिलाड़ी ने किसी बैट्समैन को आऊट होने के बाद भी मैदान पर बुला लिया हो. श्रीकांत एक बार फ़िर क्रीज़ पर थे. बेशक मन ही मन राहत की सांस ले रहे होंगे लेकिन अगली बॉल पर जो हुआ, उससे वो अधिक शर्मिंदा हुए बिना नहीं रह सके. लौट कर आने के बाद इमरान की अगली ही गेंद पर वो विकेटकीपर को कैच थमा बैठे.

इस बार लौटते वक़्त उनके चेहरे पर मुस्कुराहट थी. मानो अपनी शर्मिंदगी को छिपाने के लिए उन्होंने मुस्कान का लबादा ओढ़ लिया था. मानो कह रहे हों, 'आज वाकई मेरा दिन नहीं था'. वहीं इमरान खान अपने अंदाज़ में ही इसे सेलेब्रेट कर रहे थे और ये वाकई भारत पाक क्रिकेट का एक न भूल पाने वाले क्षण के रूप में शुमार हो गया.