नागा साधु! ये शब्द सुनते ही हमारे मन में ऐसे लोगों की छवि बनती है जिनकी लंबी-लंबी जटाएं और तन राख से लिपटी हो. मौसम चाहे ठन्डे का हो या गर्मी का नागा साधु कपड़ों के नाम पर सिर्फ़ लंगोट पहनते हैं. यही कारण है कि शिव भक्त नागा साधु दिगंबर भी कहलाते हैं.

Source: rajdhanisamachar

नागा साधु भले ही आपको सिर्फ़ नग्न ही दिखाई देते हों, लेकिन ये सिद्धि प्राप्त और युद्ध कला में माहिर होते हैं. ये साधु सालों साल अखाड़ों में ही रहते हैं और सिर्फ़ कुंभ के वक़्त ही दिखाई देते हैं. 12 वर्ष की कठिन तपस्या के बाद ही एक आम इंसान नागा साधु बन पाता है.

Source: webdunia

भारत में अखाड़ों की परम्परा जगद्गुरु आदिशंकराचार्य ने शुरू की थी. शंकराचार्य ने सनातन धर्म की रक्षा के लिए कई कदम उठाए. उन्होंने चार पीठों गोवर्धन पीठ, शारदा पीठ, द्वारिका पीठ और ज्योतिर्मठ पीठ और 7 मठों महानिर्वाणी, निरंजनी, जूना, अटल, आवाहन, अग्नि और आनंद अखाड़े का निर्माण किया था. आदिगुरू ने मठों-मन्दिरों की सम्पत्ति को लूटने वालों और श्रद्धालुओं को सताने वालों का मुक़ाबला करने के लिए सनातन धर्म के विभिन्न संप्रदायों की सशस्त्र शाखाओं के रूप में अखाड़ों की स्थापना की थी.

नागा साधुओं की ख़ासियत

Source: catchnews

अखाड़ों का एक नियम ये भी है कि नागा साधुओं को पारिवारिक परिवेश से दूर एक अलग स्थान पर रहना पड़ता है. संन्यासी के अलावा वो न तो किसी को प्रणाम करेगा न ही किसी की निंदा करेगा. दीक्षा लेने वाले हर नागा साधु को इसका पालन करना पड़ता हैं.

कैसे बनते हैं नागा साधु?

Source: cntraveller

नागा साधु की दीक्षा देने से पहले उसके स्वयं पर नियंत्रण की स्थिति को परखा जाता है. तीन साल तक दैहिक ब्रह्मचर्य के साथ मानसिक नियंत्रण को परखने के बाद ही नागा साधु की दीक्षा दी जाती है.

Source: jagran

दीक्षा लेने से पहले ख़ुद का पिंड दान और श्राद्ध तर्पण करना पड़ता है. हिंदू धर्म में पिंडदान व श्राद्ध मरने के बाद किया जाता है. इसका मतलब हुआ सांसारिक सुख दुःख से हमेशा के लिए मुक्ति. पिंड दान और श्राद्ध के बाद गुरु जो नया नाम और पहचान देता है, उसी नाम के साथ इन्हें ज़िंदगी भर जीना होता है.

कैसा होता है नागा साधुओं को जीवन

Source: ndtv.com

नागा साधु बनने के लिए हिंदू धर्म में जन्म लेना अनिवायर है. दूसरे धर्मों के लोग नागा साधु नहीं बन सकते. नागा साधु दिन में सिर्फ़ एक बार ही भोजन करते हैं. इस भोजन के लिए भी उन्हें भिक्षा मांगनी पड़ती है. एक दिन में सात घरों से भिक्षा लेने का अधिकार है. अगर सातों घरों से भिक्षा ना मिले, तो भूखे रहना पड़ता है. सोने के लिए सिर्फ़ जमीन.

मुगलों को भी हरा चुके हैं नागा साधु

Source: jagran

आपको विश्वास नहीं होगा नागा साधु युद्ध कला में इतने माहिर होते हैं कि आर्मी सेना की एक टुकड़ी को भी परास्त कर सकते हैं. इतिहास में ऐसे कई गौरवपूर्ण युद्धों का वर्णन मिलता है जिनमें 40 हज़ार से ज़्यादा नागा साधुओं ने हिस्सा लिया था. अहमद शाह अब्दाली द्वारा मथुरा-वृन्दावन के बाद गोकुल पर आक्रमण के समय नागा साधुओं ने उसकी सेना का मुकाबला करके गोकुल की रक्षा की.

सिर्फ़ पुरुष नहीं ही नागा साधु महिलाएं भी हैं

Source: twnews

कुंभ में महिला नागा साधुओं को लेकर हमेशा से उत्सुकता बनी रही है. लोग यह जानने को बेचैन रहते हैं कि आख़िर महिला नागा साधुओं जीवन कैसा होता है? आमतौर पर कुंभ या महाकुंभ के दौरान महिला नागा साधु बेहद कम ही नज़र आती हैं, लेकिन इस बार कुंभ के दौरान पहली बार भारी संख्या में महिला नागा साधु शाही स्नान कर करती हुई दिख रही हैं.

कैसे बनती है कोई महिला 'नागा साधु'

Source: samacharnama

नागा संन्यासिन बनने से पहले अखाड़े के साधु-संत उस महिला के परिवार व उसके पूर्व जन्म की जांच पड़ताल करते हैं. संन्यासिन बनने से पहले महिला को ये साबित करना होता है कि उसका अपने परिवार और समाज से अब कोई मोह नहीं है. इस बात की संतुष्टी करने के बाद ही आचार्य महिला को दीक्षा देते हैं. इसके बाद सांसारिक वस्त्र उतारकर शरीर पर पीला वस्त्र धारण कर लेती हैं.

नागा संन्यासन को क्या करना होता है?

Source: feminisminindia

नागा साधुओं की तरह ही इन्हें भी मुंडन करवाकर अपना ही पिंडदान करना पड़ता है. फिर उन्हें नदी में स्नान के लिए भेजा जाता है. महिला नागा संन्यासन पूरा दिन भगवान का जाप करती है और सुबह ब्रह्ममुहुर्त में उठकर भगवान शिव का जाप करती है. शाम को दत्तात्रेय भगवान की पूजा करती हैं. इसके बाद दोपहर में भोजन करने के बाद फिर से शिवजी का जाप करती हैं.

Source: anilsharmafotography

अखाड़ों में महिला संन्यासन को पूरा सम्मान दिया जाता है. जब कोई महिला इन सब परीक्षा को पास कर लेती है तो उन्हें माता की उपाधि दे दी जाती है. जब महिला नागा संन्यासिन पूरी तरह से बन जाती है तो अखाड़े के सभी छोटे-बड़े साधु-संत उसे माता कहकर बुलाते हैं. महिला नगा साधुओं को पुरुष साधुओं की तरह नग्न होने की इजाजत नहीं है. हालांकि जूना अखाड़े की महिलाओं को इसकी इजाजत मिली हुई है. लेकिन कुंभ के दौरान डुबकी लगाने वाले दिन ये इजाजत किसिस को भी नहीं है.

महिला साधुओं का माई बाड़ा अखाड़ा

Source: patrika

साल 2013 में जूना अखाड़े में महिलाओं के 'माई बाड़ा अखाड़े' को भी जूना अखाड़ा में शामिल कर लिया गया था. जूना अखाड़े में दस हजार से अधिक महिला साधु-संन्यासी हैं. इनमें से विदेशी संन्‍यासिन की संख्या भी काफ़ी है. इस बार प्रयागराज 2019 के कुंभ में किन्नर अखाड़े को भी अखाड़े मान्यता देकर जूना अखाड़ा में शामिल कर लिया गया है. किन्नर अखाड़े के प्रमुख लक्ष्मीनाराण त्रिपाठी है.