पिछले कुछ दिनों में अगर आपने अपने फ़ोन से फ़ेसबुक लॉग-इन किया हो, तो आपकी एक नए Rocket Ship जैसे आइकॉन पर नज़र ज़रूर पड़ी होगी. ये बटन या तो स्क्रीन के टॉप पर होता है, या फिर स्क्रीन के निचले हिस्से में दिखाई देता है. दरअसल ये आपके ऑपरेटिंग सिस्टम iOS या Android पर निर्भर करता है.

लेकिन ये सीक्रेट रॉकेट शिप आइकन आखिर है क्या?

फ़ेसबुक के एक प्रवक्ता के मुताबिक, ये रॉकेट शिप दरअसल एक अलग तरह की न्यूज़ फ़ीड होगी. फ़ेसबुक पिछले कई हफ़्तों से इस नए टैब को दुनिया के कई अलग-अलग हिस्सों में Test कर रहा है.

अभी तक आप अपनी न्यूज़फ़ीड पर केवल अपने दोस्तों के अपडेट्स और आपके द्वारा लाइक किए गए पेज के ही अपडेट्स देख सकते थे, लेकिन अब फ़ेसबुक का आर्टीफ़िशियल इंटेलीजेंस आपको आपकी पारंपरिक फ़ीड के हिसाब से कुछ ऐसे फ़ेसबुक पेजों के कंटेट से भी रूबरू कराएगा, जिन्हें आपने अभी तक लाइक नहीं किया है.

रॉकेट को ऑल्ट्रनेटिव फ़ीड कहा जा सकता है. यह FB पेजों के पॉपुलर कंटेंट को आप तक पहुंचाएगा, जिन्हें आप अब तक लाइक या फ़ॉलो नहीं कर रहे हैं. माना जा रहा है कि इससे अब लोग फ़ेसबुक पर ज़्यादा देर तक जुड़े रहेंगे.

Source: newsapi

फ़ेसबुक के प्रवक्ता के मुताबिक. हम अभी तक एक ऐसी अलग तरह की फ़ीड की टेस्टिंग कर रहे हैं, जिसमें पॉपुलर आर्टिकल्स, वीडियो, फोटोज़ को दर्शकों के हिसाब से कस्टमाइज़ किया जाएगा. मसलन अगर कोई शख़्स फ़ेसबुक पर पॉलिटिक्स को लेकर काफ़ी लिखता है,या उसने राजनीति से जुड़े कई पेज लाइक किए हुए हैं, तो वो जब भी रॉकेट का इस्तेमाल करेगा तो उसे उन पेजों से बढ़िया कटेंट मिलेगा, जिसे इस शख़्स ने अब तक लाइक नहीं किया है.

फ़ेसबुक का ये नया फ़ीचर इंस्टाग्राम एक्सप्लोर टैब से मिलता जुलता होगा. इंस्टाग्राम पर इस फ़ीचर की सहायता से लोग चाहें तो उन पेज और पोस्ट्स को भी देख सकते हैं जिन्हें वो इंस्टा पर फॉलो नहीं करते हैं.

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं है जब फ़ेसबुक एक अलग तरह की न्यूज़ फ़ीड में हाथ आज़माने की कोशिश कर रहा है. अप्रैल 2016 में भी फ़ेसबुक ने न्यूज़फ़ीड के साथ प्रयोग की कोशिश की थी.

Source: news.com.au