दिल्ली-6 के आमिर ने उस गुनाह के लिए 14 साल जेल में काटे हैं, जो उन्होंने किया ही नहीं. बात 1998 की है, जब 18 साल का आमिर रात में अपनी मां के लिए दवा लाने घर से निकला और 14 साल बाद लौटा. यह कोई फ़िल्मी कहानी नहीं है, बल्कि एक मुस्लिम नौजवान की मार्मिक कहानी है.

भारत में जन्मा, पला-बढ़ा, खेला-कूदा आमिर चंद दिनों में ही पाकिस्तानी हो गया. 18 साल के आमिर पर पुलिस ने 19 संगीन मामले दर्ज़ किए, जिसमें बम धमाके करने, आतंकी साजिश रचने और देश के खिलाफ़ युद्ध करने जैसे संगीन आरोप थे. हालांकि, यह आरोप आमिर पर ज़्यादा दिन तक नहीं लग सके. सबूतों के अभाव में आमिर को 2012 में रिहा कर दिया गया, लेकिन एक सवाल के साथ. क्या उनके 14 साल कोई लौटा सकता है?

Source: Tushar Josh
आमिर का केस लड़ने वाले एडवोकेट फिरोज़ खान ग़ाज़ी ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा, ‘ज़रा सोचिए… उम्र 18 साल और केस की संख्या 19… फिर भी आमिर के चेहरे पर हमेशा हमने एक यक़ीन देखा. यह यक़ीन कानून पर भरोसे का है. देश में मिलने वाले इंसाफ का है.’
Source: Tushar Josh
उन्होंने आगे कहा, ‘पुलिस ने हर मामले में झूठे गवाह पेश किए. और हमें इन गवाहों में से ही कई ऐसे गवाह मिले, जिन्होंने हमारे केस को और आसान बनाया.’
Source: Tushar Josh

आमिर महात्मा गांधी को अपना आदर्श मानते हैं. उनकी सबसे अच्छी बात ये है कि उन्हें कानून पर भरोसा है. जेल से छूटने के बाद आमिर के जख़्मों पर 5 लाख रुपये देकर मरहम लगाने की कोशिश ज़रुर की गई, मगर क्या ये हिसाब सही है?

Source: Tushar Josh

मुझे अरेस्ट नहीं, बल्कि किडनैप किया गया

जब आमिर ने अपनी बात रखी तो हाल में खामोशी छा गई. 14 साल जेल में सज़ा काट चुके आमिर की कहानी इंसान को अंदर तक झकझोर देती है. आमिर मानता है कि उसे अरेस्ट नहीं, बल्कि किडनैप किया गया था. वो कहता है कि मुझे अपनी बेगुनाही साबित करने में 14 साल लग गए. इन 14 सालों के बाद जब मैं जेल से बाहर आया तो मेरी दुनिया ही बदल चुकी थी. बाप इस दुनिया को अलविदा कह चुके थे. मां के मुंह से आज भी बेटा सुनने को तरसता हूं. वो कहता है कि मैंने जो कुछ सहा, वो तो मैं बयान कर सकता हूं, लेकिन जो कुछ मेरे मां-बाप ने सहा उसे कोई बयान नहीं कर सकता.

Source: Tushar Josh

ये सही है कि आमिर के वो 14 साल अब कोई भी नहीं लौटा सकता. सरकार इसे अपनी ग़लती भी नहीं मान रही है. हालांकि, आमिर को अब सरकार और प्रशासन से कोई शिकायत नहीं है. पांच लाख रूपये का चेक पाकर वो खुश है. उसे उम्मीद है कि उसकी आगे की ज़िन्दगी में थोड़ी ख़ुशी आने वाली है.