बर्फ़बारी का सीज़न है. हर साल सैलानी देश के पहाड़ी इलाकों में कुदरत के इस अद्भुत नज़ारे को देखने के लिए पहुंच जाते हैं. लेकिन कभी-कभी मौसम की मार भी पर्यटकों को झेलनी पड़ती है. ऐसा ही हुआ सिक्किम के नाथू ला में, जहां भारी हिमपात की वजह से करीब 2800 पर्यटक फंस गए. इन्हें रेस्क्यू करने के लिए भारतीय सेना ने दिन रात एक कर दिया. इंडियन आर्मी के जवानों ने अपने बिस्तर भी पर्यटकों दे दिए और ख़ुद -9 डिग्री के तापमान में बाहर उनकी सुरक्षा में तैनात रहे.

Source: Sikkim Express

दरअसल, शनिवार को हुई भारी बर्फ़बारी में नाथू ला में करीब 300-400 वाहन फंस गए. उनको सुरक्षित बाहर निकालने के लिए भारतीय सेना ने बचाव कार्य शुरू किया . भीषण सर्दी में भारतीय सेना के जवानों ने सभी टूरिस्ट्स को सेना के बेस कैंप 17th Mile Area पहुंचाया.

Source: dnaindia.com

ज़िले के मजिस्ट्रेट कपिल मीणा ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया कि, 'सभी पर्यटकों को रेस्क्यू कर लिया गया है. साथ ही उन्हें बेस कैंप में खाना और दवाईयां भी दी गई. उन्हें जल्द ही गंगटोक भेजा जाएगा, ताकि वो अपने-अपने घर लौट सकें.'

इन्हीं में से एक पर्यटक ने बताया कि- 'भारतीय सेना के जवानों ने अपना बिस्तर पर्यटकों से शेयर किया और पूरी रात -9 डिग्री के तापमान में बाहर पहरा देते रहे ताकि हम सुरक्षित और ज़िंदा रह सकें. उन्होंने हम सभी के लिए जो किया है, उसके सामने धन्यवाद जैसा शब्द भी छोटा लगता है.'

हैट्स ऑफ़ इंडियन आर्मी.