अभी योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश की सत्ता संभाले कुछ वक़्त ही हुआ है कि प्रदेश में नेता से लेकर अधिकारी हिंदुत्व की राह पर चल पड़े हैं. हिंदुत्व की इसी राह पर चलते हुए मेरठ के स्कूल ने तुग़लकी फ़रमान सुनाते हुए स्कूल में पढ़ने वाले 2800 लड़कों को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तरह बाल कटवाने का सर्कुलर जारी किया है. इसके साथ ही स्कूल ने लड़के-लड़कियों को अलग-अलग बैठने को कहा है, जिससे उनके बीच बातचीत न हो सके और लव-जिहाद जैसी स्थिति न पैदा हो सके.

इस आदेश के पीछे स्कूल प्रशासन ने तर्क दिया है कि ये स्कूल है कोई मदरसा नहीं, जहां बच्चों को नमाज़ पढ़नी सिखाई जाए. इसके साथ ही स्कूल में मांसाहारी खाने को भी प्रतिबंधित कर दिया गया है.

ये मामला Rishabh Academy Co-Educational English Medium स्कूल का है. स्कूल की ये हरकत उस समय लाइमलाइट में आयी, जब कुछ लड़कों को आदेश न मानने की वजह से स्कूल में घुसने नहीं दिया गया.

स्कूल के सचिव रणजीत जैन का कहना है कि 'हमने बच्चों से सिर्फ़ बाल छोटे करवाने के लिए कहा था, जैसे कि आर्मी में जवानों के होते हैं. हां बच्चों को दाढ़ी रखने से हमने मना किया है, क्योंकि ये स्कूल है कोई मदरसा नहीं.'

रणजीत आगे कहते हैं कि 'ये स्कूल जैन समाज द्वारा चलाया जाता है, जिसमें मांसाहारी भोजन की मनाही है. इसकी जांच करने के लिए हम समय-समय पर बच्चों के टिफिन्स को देखते हैं कि कहीं कोई नियमों को तोड़ तो नहीं रहा.'

Source: TOI