हाल ही में नासा ने एक हैरतअंगेज़ खोज में पृथ्वी के आकार जैसे सात ग्रहों को ढूंढ निकाला है. खास बात ये है कि इन ग्रहों पर जीवन के होने की भी सम्भावना है. ये ग्रह, ट्रैपिस्ट-1 नाम के तारे की परिक्रमा लगा रहे हैं.

नासा इस खोज को लेकर काफ़ी उत्साहित है. शायद यही कारण है कि वो धरती वासियों को इस सोलर सिस्टम के बारे में अधिक से अधिक जानकारी देना चाहता है. इसी सिलसिले में नासा ने एक Virtual Tour का निर्माण किया है. इस 3D टूर में लोग ट्रैपिस्ट 1 को देख सकते हैं. इसके अलावा बाकी छह ग्रहों को आकाश में देखा जा सकता है.

इस वीडियो को देखते हुए स्क्रीन पर केवल अपने कर्सर को घुमाने पर इस ग्रह के अलग-अलग नज़ारों से रूबरू हुआ जा सकता है. लेकिन अगर आप इस Virtual Tour का असली अनुभव चाहते हैं, तो गूगल कार्डबोर्ड व्यिूवर या वर्चुअल रियेल्टी हेडसेट का इस्तेमाल कर आप एक अलग दुनिया में पहुंच सकते हैं.

गौरतलब है कि इस सोलर सिस्टम को पृथ्वी से 39 प्रकाश वर्ष दूर बताया जा रहा है. ये सभी ग्रह, आकार में पृथ्वी के लगभग बराबर बताए जा रहे हैं. TRAPPIST-1 नामक एक बेहद ठंडे छोटे से तारे के आस-पास मिलने वाले इन ग्रहों की सतह पर समुद्र भी हो सकते हैं.

इनमें से तीन ग्रह गोल्डिलोक्स ज़ोन में हैं, जिसका मतलब है कि न तो यहां ज़्यादा गर्मी है और न ही ज़्यादा सर्दी पड़ती है. गोल्डिलोक्स ज़ोन के होने का मतलब है कि इन पथरीले ग्रहों पर पानी द्रव अवस्था में रह सकता है.

इससे इन ग्रहों पर समुद्र के होने की संभावना बढ़ गई है. इन ग्रहों के हालांकि अभी तक कोई नाम निर्धारित नहीं किए गए हैं और इन्हें ट्रैपिस्ट 1बी, सी, डी, ई, एफ, जी और एच कहा जा रहा है.

नासा ने सबसे पहले एक बौने सितारे ट्रैपिस्ट-1 को खोजा था और उसके बाद ही सात ग्रहों को खोज निकाला था. ये ग्रह, ट्रैपिस्ट-1 नाम के तारे की उसी तरह परिक्रमा कर रहे थे, जैसे हमारे सोलर सिस्टम के ग्रह करते हैं. इस परिक्रमा के कारण ही एस्ट्रोनॉमर्स इन ग्रहों के आकार और तापमान के बारे में पता लगाने में कामयाब हुए हैं.

Source: The Sun