कुछ दिन पहले मकर सक्रांति के दिन देशभर में ख़ूब पतंगबाज़ी हुई. इस दौरान लोगों ने ख़ूब पतंगें उड़ाई, लेकिन जान हज़ारों पक्षियों ने गंवाई. ज़िन्दगी चाहे इंसानों की हो या फिर जानवरों की, जीना हर कोई चाहता है. इन सब के बावजूद मानवता अब भी ज़िंदा है. इसके कई नज़ारे हमें अक्सर देखने को मिल ही जाते हैं.

Source: twitter

ऐसा ही एक नज़ारा हाल ही में मुंबई में भी देखने को मिला. पश्चिमी रेलवे ने बिजली की तारों के बीच फंसे एक कबूतर को बचाने के लिए 5 मिनट के लिए अपनी सारी सेवाएं रोक दीं. वैसे हमारे देश में इस तरह के नज़ारे कम ही देखने को मिलते हैं.

Source: indiarailinfo

इंडिया टाइम्स के मुताबिक, ये घटना मुंबई के गोरेगांव रेलवे स्टेशन की है. ट्रेन में बैठे यात्रियों में से किसी ने स्टेशन मास्टर को कबूतर के फंसे होने की जानकारी दी. इस पर उन्होंने तुरंत कार्रवाई करते हुए फ़ायर ब्रिगेड व अन्य अधिकारियों को घटना स्थल पर पहुंचने के आदेश दिए.

फ़ायर ब्रिगेड के कर्मचारी जब घटना स्थल पर पहुंचे तो देखा कि कबूतर बिजली की तारों में अटके पतंग के मांझे से बुरी तरह से लिपटा हुआ है. इसके बाद उन्होंने 5 मिनट के लिए बिजली की सप्लाई बंद कर दी, ताकि कबूतर की जान बचाई जा सके. इस दौरान कबूतर को सुरक्षित नीचे उतारने के लिए कर्मचारियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी.

Source: thehindu

भले ही ये काम देखने में छोटा सा लगे, लेकिन जान हर किसी को प्यारी होती है. उस कबूतर को भी अपनी जान प्यारी थी, इसलिए वो बच निकला. इसे चमत्कार ही कहिये, वरना हमारे देश में हर दिन न जाने कितने बेगुनाह जानवर मारे जाते हैं.