फ़ेस्टिवल सीज़न आते ही हर कोई दो से तीन महीने पहले ट्रेन, बस और फ़्लाइट की टिकिट्स बुक करने में जुट जाता है. लंबी दूरी की यात्रा के लिए लोग आज भी ट्रेन को सबसे बेहतर साधन मानते हैं, लेकिन इस दौरान भारतीय रेल की टिकिट पाना जंग जीतने से कम नहीं है. हम अकसर देखते हैं कि चाहे फ़ेस्टिवल सीज़न हो या फिर कोई सामान्य दिन IRCTC की साईट आख़िरी मौक़े पर धोखा दे ही देती है.

Source: firstpost.com

हम भारतीयों के मन में आज भी IRCTC की साईट से टिकिट्स बुक कराने को लेकर कई तरह के सवाल आते हैं. आईये जानते हैं आख़िर ऐसे कौन से सवाल हैं, जो टिकिट बुक करने से पहले हमारे मन में आते हैं.

1- IRCTC पेज खुलता नहीं है

Source: india.com

जब भी घरवालों का कहीं जाने का प्लान बनता है, तो पापा सबसे पहले ट्रेन टिकट्स बुक करने का ऑर्डर दे डालते हैं. ऐसे में हमें IRCTC पर पूरा भरोसा होता है कि क्लिक करते ही साईट खुलेगी नहीं. टेक्नोलॉजी के इस दौर में भी आज अमूमन हर तीसरे-चौथे भारतीय के साथ ऐसा ही होता है.

2- कॉम्प्लीकेटेड आईडी-पासवर्ड

Source: youtube

ग़लती से IRCTC का पेज खुल भी गया तो जैसे ही आईडी-पासवर्ड डालते हैं, तो जवाब में रॉन्ग आईडी-पासवर्ड दिखता है. सही आईडी-पासवर्ड और कोड डालने के बावजूद पेज ओपन नहीं हो पाता. Capcha भी कुछ इस तरह का होता है कि उसको पढ़ पाना हर किसी के बस की बात नहीं है. आज तक ये समझ नहीं आया कि इसे इतना मुश्किल क्यों बनाया जाता है?

3- जो सीट चाहिए हो वो मिल नहीं पाती

Source: quora.com

पहली बात तो ये कि जब भी ऑनलाइन टिकिट्स बुक करने की सोचते हैं टिकटें तीन-चार महीने पहले से ही बुक हो जाती हैं. मुश्किलों के बाद जो बची हुई टिकट्स मिलती हैं वो भी एक साथ मिल नहीं पाती. अगर परिवार के चार लोगों को एक साथ टिकट्स चाहिए भी हों तो मिल नहीं पाती. पिता को पहले डिब्बे तो बेटे को आठवें डिब्बे में मिलती हैं.

4- पेमेंट के वक़्त साइट का हैंग हो जाना

Source: andhrawebnews

ऐसा अकसर हर किसी के साथ होता होगा कि जब भी टिकिट्स बुक करने की सारी प्रोसेस पूरी हो जाती है और पेमेंट का वक़्त आता है ठीक उसी वक़्त हमारी परम पूज्यनीय IRCTC साइट हैंग हो जाती है. सबसे ज़्यादा गुस्सा तो उस वक़्त आता है जब पैसा कट जाने के बावजूद टिकिट्स बुक नहीं होती.

5- पेमेंट होने के बाद भी टिकट्स कन्फ़र्म न हो पाना

Source: quora.com

फ़ेस्टिवल्स सीज़न में ट्रेन की टिकट्स मिल पाना समंदर में सिक्का ढूंढ़ने जैसा होता है. पेमेंट होने के बावजूद हमें यात्रा करने के समय तक टिकट्स के कन्फ़र्म होने का इंतज़ार करना पड़ता है. रेलवे की यही कमियां हमारा खून सुखा देती हैं.

6- तत्काल है या आपातकाल

Source: irctc-co

तत्काल नाम सुनते ही ऐसा लगता है जैसे 1 मिनट में टिकट आपके हाथ में होगी, लेकिन ये तत्काल किसी आपातकाल से कम नहीं है. पिछले कुछ सालों से रेलवे ने यात्रियों के लिए तत्काल की ऑनलाइन सुविधा भी दी हुई है. अब तक ये समझ नहीं आया कि ये सुविधा किन लोगों को दी जाती है? तत्काल टिकट्स के लिए जब भी सुबह IRCTC की साइट खोलकर बैठते हैं, तो 2 मिनट के अंदर सारी टिकिट्स बुक हो जाती हैं. टिकट सेलेक्ट करने और पेमेंट होने तक तो Time Out लिखा आ जाता है.

7- ऑनलाइन बेहतर या ऑफ़लाइन?

Source: hellotravel.com

टेक्नोलॉजी के इस दौर में लोग लंबी-लंबी लाइन से बचने के लिए ऑनलाइन टिकट्स बुक कराना बेहतर समझते हैं. इसके लिए भले ही उन्हें 100 से लेकर 200 रुपये एक्स्ट्रा ही क्यों न देना पड़े. लोगों को अब लाइन में लगना बिलकुल पसंद नहीं है, लेकिन ये बात भी सच है कि घूम फिरकर लोगों को लाइन में लगना ही पड़ता है.

अगर IRCTC की साइट को लेकर आपके मन में भी कोई विचार आता हो या फिर कोई Experience रहा हो तो हमारे साथ शेयर करें.