फ़ेसबुक आज हम सब की ज़िन्दगी का एक अहम हिस्सा बन चुका है. यह सिर्फ़ मनोरंजन या हमें देश-दुनिया से जोड़े रखने का ज़रिया भर नहीं है. यह ऐसा बक्सा है, जिसमें हम अच्छी-बुरी, खट्टी-मीठी, छोटी-बड़ी यादों के रूप में अपने रोज़मर्रा के अनुभव जमा करते जाते हैं. ये कहना गलत नहीं होगा कि फ़ेसबुक वो डायरी है, जिसमें हमारी पसन्द और नापसन्द सब दर्ज़ होती चली जाती हैं. फ़ेसबुक एक ऐसी तिजोरी है, जिसमें हमारी यादों के साथ ही ऐसे राज़ छुपे हुए हैं, जिन्हें शायद खुद हम भी भूल चुके होते हैं. इस फ़ेसबुक से हमें इतना प्यार हो चुका है कि दिन में 10 बार हम अपने फ़ेसबुक अकाउंट को चेक करते हैं. हमारी ज़िंदगी के इतने करीब आ चुके इस फ़ेसबुक के बारे में आपने कभी सोचा है कि आपके नहीं होने के बाद आपके फ़ेसबुक अकाउंट का क्या होगा?

प्रॉपर्टी की तरह फ़ेसबुक में भी एक वसीयत जैसी योजना होती है. यदि आप चाहते हैं कि आपके न रहने के बाद भी आपका फ़ेसबुक अकाउंट चलता रहे, तो आपको अपने फ़ेसबुक की वसीयत भी किसी के नाम करनी होगी.

Source: welivesecurity.com

फ़ेसबुक Memorialized कर देगा आपका अकाउंट

जब फ़ेसबुक को अपने किसी यूज़र की मृत्यु के बारे में पता चलता है, तो वो उसके अकाउंट को Memorialized कर देता है. इसका मतलब ये हुआ कि वो अकाउंट दिखाई तो देगा, लेकिन कोई उसका इस्तेमाल नहीं कर पायेगा. इसके अलावा फ़ेसबुक ऐसे अकाउंट को हमेशा के लिए डिलीट भी कर सकता है. अगर किसी यूज़र ने अपने फ़ेसबुक अकाउंट के लिए किसी को उत्तराधिकारी बनाया है, तो यूज़र की मृत्यु के बाद उस व्यक्ति को अकाउंट मैनेज करने के लिए कुछ लिमिटेड राइट्स दे दिए जाएंगे.

Source: livemint.com

अगर यूज़र Memorialized या डिलीट का ऑप्शन नहीं देता

ऐसी स्थिति में यूज़र के परिवार के लोग या दोस्त उसकी मृत्यु की सूचना फ़ेसबुक को दे कर उसके अकाउंट को Memorialized करवा सकते हैं. लेकिन इसके लिए उन्हें मृत्यु से जुड़े प्रमाण फ़ेसबुक को देने होते हैं. फ़ेसबुक अपने स्तर पर सूचना की जांच करता है और सही पाए जाने पर यूज़र के अकाउंट को Memorialized कर देता है.

Source: thrutcher,com

ऐसे चुनें अपना फ़ेसबुक उत्तराधिकारी

अगर आप दुनिया से विदा लेने के बाद भी फ़ेसबुक पर ज़िन्दा बने रहना चाहते हैं, तो आपको एक ऐसे शख़्स का चुनाव करना होगा, जिस पर आप विश्वास करते हैं और जो आपके बाद आपका फ़ेसबुक अकाउंट हैंडल कर सके. इसके लिए आपको फ़ेसबुक Settings में जा कर Manage Account ऑप्शन के सामने Edit पर Click करना होगा. उसमें Your Legacy Contact के ऑप्शन के नीचे एक बॉक्स बना होगा, जिसमें Choose A Friend लिखा होगा. उसमें जा कर अपने उस फ़ेसबुक फ्रेंड का नाम टाइप करें, जिसे आप अपने अकाउंट का उत्तराधिकारी बनाना चाहते हैं. बॉक्स में नाम आने पर Add के ऑप्शन को सेलेक्ट करते ही आपका दोस्त आपके फ़ेसबुक अकाउंट का उत्तराधिकारी बन जाएगा. इसके बाद फ़ेसबुक आपको एक ऑप्शन भी देगा कि आप उसी वक़्त अपने उस फ्रेंड को मैसेज भेज कर इसकी जानकारी देना चाहते हैं या नहीं. मन बदलने पर इसी Setting पर जा कर आप चुने हुए फ्रेंड को इस ज़िम्मेदारी से हटा भी सकते हैं.

आपके मैसेज को नहीं पढ़ पाएगा आपका फ़ेसबुक उत्तराधिकारी

आपके फ़ेसबुक उत्तराधिकारी के पास आपके अकाउंट से जुड़े बहुत लिमिटेड राइट्स होंगे. इससे न ही वह आपके मैसेज पढ़ सकेगा और न ही आपके अकाउंट को ओपन करके किसी पुरानी पोस्ट को एडिट या डिलीट कर पाएगा. आपका फ़ेसबुक उत्तराधिकारी नए दोस्तों को जोड़, तो सकता है, पर पुराने दोस्तों को फ़ेसबुक से हटा नहीं सकता. इसके अलावा उसे प्रोफ़ाइल फ़ोटो चेंज करने के साथ ही आपकी याद में पोस्ट लिखने के अधिकार मिलेंगे. ऐसी ही बहुत-सी जानकारी आप फ़ेसबुक के हेल्प सेंटर वाले ऑप्शन में जा कर ले सकते हैं.

Source: inc.com

हमेशा के लिए डिलीट भी करवा सकते हैं अपना फ़ेसबुक अकाउंट

अगर आप चाहते हैं कि आपके बाद आपका फ़ेसबुक अकाउंट डिलीट कर दिया जाए, तो आप Your Legacy Contact के नीचे आ रहे Request Account Deletion ऑप्शन को सेलेक्ट करके फ़ेसबुक अकाउंट को डिलीट करवा सकते हैंसे इस बारे बात कर सकते हैं.

Source: twitter.com

आपकी मृत्यु के बाद भी आपको याद रखेगा फ़ेसबुक

Source: socialtrendsph

आपके अकाउंट के Memorialized होने के बाद आपके नाम के आगे Remembering लिख कर आने लगेगा, आपकी पोस्ट्स की प्राइवेसी सेटिंग के अनुसार आपके फ्रेंड्स आपसे जुड़ी यादों को शेयर कर सकेंगे. इन सब के अलावा समय-समय पर खुद फ़ेसबुक भी दुनिया को आपकी याद दिलाता रहेगा.

इस तरह मर कर भी आप अपनों के बीच हमेशा ज़िन्दा रहेंगे.