दिल्ली के नज़फगढ़ में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. एक सनकी प्रेमी ने प्यार में नाकाम होने के कारण 21 साल की महिला की हत्या कर दी. सबसे हैरानी वाली बात ये है इस हत्या में आरोपी का साथ देने वाला उसका अपना भाई था, ये दोनों फ़िलहाल पुलिस की गिरफ़्त में है.

मामला गंभीर है और थोड़ा संगीन भी. जब अपने ही जान के दुश्मन बन जाए, तो समझौता करना मुश्किल हो जाता है. आरोपियों का नाम अमित और बसंत है. बसंत मृतका का भाई है. मामला कुछ इस तरह से है.

Source: PTI

25 वर्षीय अमित को एक लड़की से प्यार हो गया था. वो उससे शादी करना चाहता था. इस वजह से उसने युवती के भाई से बसंत से दोस्ती कर ली. दोस्ती होने के बाद वो बसंत के घर आने-जाने लगा और युवती से संपर्क बढ़ाने की कोशिश भी करने लगा. यह बात युवती को ख़राब लगती थी. कुछ दिनों बाद युवती की शादी हो गई, इस बात से अमित युवती से चिढ़ गया. उसने शादी के बाद भी युवती से बातचीत करनी चाही, मगर युवती उससे कोई मेलजोल रखना नहीं चाहती थी. ऐसे में वो युवती को मारने की प्लानिंग करने लगा. इसके लिए उसने उसके भाई, बसंत को भी अपने प्लान में शामिल कर लिया. दोनों मौके की फ़िराक में थे. युवती को अकेला देख वे चाकू लेकर गए और उस पर हमला कर दिए. युवती को ज़ख्मी हालत में सफदरजंग अस्पताल लाया गया, जहां उसकी मौत हो गई. युवती प्ले स्कूल में पढ़ाती थी.

इस कहानी में एक और कहानी है

महिला की हत्या करने के बाद दोनों आरोपी फ़रार हो गए. अमित के पिता राज सिंह दिल्ली पुलिस में दरोगा के पद पर तैनात हैं. रोड एक्सिडेंट होने के कारण वो तीन महीने से घर पर ही आराम कर रहे हैं. जब उन्हें इस घटना के बारे में जानकारी मिली, तो उन्होंने फौरन अपने बेटे को गिरफ्तार करवाने की ठानी. इसके लिए उन्होंने पुलिस की मदद भी की.

उनकी ईमानदारी और कर्तव्य निष्ठा को देखते हुए ज्वाइंट कमिशनर (दक्षिण-पश्चिम) दिपेंद्र पाठक ने कहा कि अपने आरोपी बेटे को पकड़वाने में उनकी ये कोशिश वाकई में सराहनीय है.

ऐसे बहुत कम पिता होते हैं, जो इस तरह का कदम उठाते हैं. वाकई में इनकी इस कोशिश और जज़्बे को हमें सलाम करते हैं और उम्मीद करते हैं कि लोग इनसे सीख लें.