शुक्रवार को जब पूरा देश रावण दहन की ख़ुशियां मना रहा था, उस वक़्त अमृतसर में रावण का पुतला जलाते हुए लगभग 100 लोगों को ट्रेन कुचल कर निकल गयी. इस हादसा में कई लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं.

Source: b'Source:\xc2\xa0'

अचानक हुई इस आकस्मात घटना से पूरा देश सकते में है. इस दुर्भाग्यपूर्ण वाकये में जिन लोगों की जान गयी, उनमें रामलीला में रावण बने एक्टर दलबीर सिंह भी थे. तेज़ी से आती ट्रेन से लोगों को बचाने में लगे दलबीर को अपनी जान क़ुर्बान करनी पड़ी. वो 7-8 लोगों को रेस्क्यू कर चुके थे लेकिन उनका का एक पैर ट्रैन के ट्रैक में फंस गया और ट्रेन के आने तक वो उसे नहीं निकाल पाए.

Source: b'Source:\xc2\xa0'
दलबीर हर साल रामलीला में कोई न कोई किरदार ज़रूर निभाते थे. इस साल वो रावण बना था. ये बात दलबीर की मां ने News18 को बताई.

दलबीर के भाई के अनुसार वो अपने परिवार का इकलौता कमाने वाला व्यक्ति था. वो घटनास्थल पर अपनी ट्रॉफ़ी लेने गया था. ट्रेन आती देख उसने 7-8 लोगों को बाहर निकाला लेकिन ख़ुद को नहीं बचा पाया. सरकार को उसकी महीने की बच्ची और पत्नी के बारे में सोचना चाहिए.

Source: b'Source'

दलबीर की बच्ची और पत्नी के भविष्य के लिए उसके परिवार वाले सरकार से नौकरी की मांग कर रहे हैं.

हमने चुनाव के समय उनकी घर-घर जा कर मदद की है, अब हमें उनकी मदद की ज़रूरत है. मुझे अपने बेटे के लिए इंसाफ़ चाहिए.
Source: b'Source:'

इस घटना के बाद CM अमरिंदर सिंह ने जांच के आदेश दे दिए हैं कि ट्रैक के इतने पास रावण धान की परमिशन किसने दी. सच्चाई ये है कि ये घटना टल सकती थी. सरकार और प्रशासन के ख़िलाफ़ लोगों का रोष जायज़ है.