उत्तर भारत में दिल्ली के बाद सबसे बड़ा शहर जयपुर है. राजस्थान की यह राजधानी अपने गरिमामयी इतिहास और वर्तमान समय में बढ़ती आर्थिक मजबूती की वजह से लाखों लोगों को हर साल आकर्षित करती है. इस वजह से शहर का विस्तार भी हुआ है और शहर की समस्याएं भी. सबसे प्रमुख समस्याओं में से एक है, पानी की समस्या.

Source: vatikagroup

दिल्ली से जयपुर जाते समय जयपुर शहर की शुरुआत आमेर क्षेत्र से हो जाती है. 1727 से पहले आमेर से ही जयपुर रियासत का राजपाठ चलता था.

Source: devrajniwas

पानी की यह समस्या जयपुर रियासत में आमेर रियासत के जमाने से ही रही है. अपनी जनता को इस समस्या से निजात दिलाने के लिए आमेर के राजा सवाई जयसिंह ने आमेर और जयगढ़ महल के बीच में एक मानवनिर्मित कृत्रिम झील का निर्माण करवाया था. इस झील से आमेर, जयगढ़ किले में रहने वाले लोगों के साथ-साथ आमेर रियासत के लोगों की प्यास भी दूर होती थी. यह झील अरावली की पहाड़ियों से घिरी हुई है. इस वजह से इसे ना तो शहर की तरफ़ से और ना ही किले से देखा जा सकता है.

Source: jaipurcityblog

इस झील को आयताकार आकार में बनाया गया था. यह झील मानसून के सीजन में होने वाले बारिश के पानी से भर जाती है. इस झील को मूल रूप से दो भागों में बांटा गया है, ऊपरी सागर और निचला सागर.

Source: jaipurcityblog

इसके साथ ही इस आमेर सागर झील को कुछ कुओं से भी जोड़ा गया है. जब झील पानी से पूरी तरह भर जाती है, तो इन कुओं में पानी चला जाता है. मानसून में इस झील में भरने वाला पानी साल भर इस इलाके के लोगों की पानी की कमी को पूरा करता है. इसके साथ ही यह जगह पिकनिक स्पॉट के रूप में भी जानी जाती है.

Source: blogspot

आज के जमाने में भ्रष्ट नेता, लोगों को चुनाव के दिनों में बड़े-बड़े वादे दिखा कर चुनाव के बाद जनता के बीच से गधे के सींग की तरह गायब हो जाते हैं. वहीं दूसरी तरफ़ इतिहास में ऐसे राजा थे, जिनकी बनवाई ऐसी ही अनेक झीले और तालाब आज भी उनकी रियासत के लोगों की प्यास बुझाते हैं.

Source: topyaps