इस महीने असम में आई भीषण बाढ़ के कारण काज़ीरंगा राष्ट्रीय उद्यान का लगभग 70 प्रतिशत हिस्सा पानी में डूब चुका है. इस महीने की शुरुआत में ही 105 जानवरों को ये बाढ़ लील गयी थी. अब ये आंकड़ा 225 तक पहुंच गया है.

नेशनल पार्क के डायरेक्टर, सत्येन्द्र सिंह ने इसकी पुष्टि की है. उन्होंने बताया कि 'अब पानी हटने तो लगा है, लेकिन इसमें बहुत वक़्त लग रहा है'. ऐसे में जानवरों के मरने का आंकड़ा हर दिन बढ़ता जा रहा है. अभी हालात सामान्य होने में कुछ समय और लगेगा. अब तक पार्क में 178 हिरण, 15 गेंडे, 4 हाथी और एक बाघ मर चुका है.

इस बाढ़ से 25 जिलों में 33 लाख लोगों का जन-जीवन प्रभावित हुआ है. कई इमारतें, मकान, सड़कें और पुल ढह चुके हैं. उत्तर-पूर्वी इलाका देश से कट चुका है और ट्रेनें भी वहां नहीं पहुंच पा रही हैं.

इससे पहले 2012 में 793 जानवर काज़ीरंगा पार्क में मरे थे. पिछले साल भी 503 जानवरों की जान गयी थी, लेकिन प्रशासन द्वारा इन्हें बचाने के लिए कोई ख़ास कदम नहीं उठाये गए.