भारत में भुखमरी और कुपोषण की समस्या का समाधान करने के लिए प्रयास करने वाले अंकित कावत्र को खुद रानी एलिज़ाबेथ सम्मानित करने वाली हैं. उन्हें प्रतिष्ठित Young Leaders Award दिया जायेगा. इसके लिए 53 Commonwealth देशों में से 60 लोगों को चुना गया है.

25 वर्षीय अंकित को 29 जून को बकिंघम पैलेस में आयोजित होने वाले एक समारोह में सम्मानित किया जाएगा. अंकित ने समाज सेवा के लिए 2014 में अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ दी थी. उन्होंने Feeding India नाम की एक संस्था खोली है, जो कि भूख और कुपोषण से निपटने के लिए काम करती है.

वो होटलों, रेस्टोरेंट्स आदि से बचा हुआ खाना ज़रूरतमंदों तक पहुंचाते हैं. जब उन्होंने देखा कि रोज़ कितना खाना बर्बाद हो जाता है और कितने लोग भूखे पेट सोते हैं, तो उन्होंने इसके लिए कुछ करने की सोची. वो देश से भुखमरी की समस्या को ख़त्म कर देना चाहते हैं.

अंकित ने कहा कि भारत में हर दिन 67 मिलियन टन खाना बर्बाद हो जाता है. इस खाने का सही उपयोग करता उन्हें जब कोई नहीं दिखा, तो उन्होंने खुद ही ये ज़िम्मेदारी उठा ली.

उन्होंने इस नेक काम की शुरुआत पांच सदस्यों की टीम के साथ की थी. आज उनका NGO 43 शहरों में 4,500 लोगों के साथ काम करता है. इसकी बदौलत रोज़ 8.5 मिलियन लोगों का पेट भरा जाता है.

Source: Indiatimes