अगर क्रिकेट हिन्दुस्तानियों की रगों में दौड़ता है तो IPL जिगर में. IPL के लिए लोगों की दीवानगी हर सीज़न के साथ बढ़ी है. दीवानगी के साथ ही दर्शक और बुकीज़ अब इसमें पहले के मुक़ाबले ज़्यादा पैसे लगाने लगे हैं. 2 रुपये हों या 2 करोड़, हैसियत के हिसाब से लोग सट्टा लगाते ही हैं. ये इतना आम हो गया है कि लोग खुलेआम फ़ोन पर पैसे की बातचीत करते हुए भी सुनाई देते हैं.

सट्टेबाज़ी और क्रिकेट के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि किसी सट्टेबाज़ ने सामने आकर सट्टा लगाने की बात क़ुबूल की है.

ET की रिपोर्ट के अनुसार, बॉलीवुड एक्टर-प्रोड्यूसर अरबाज़ खान ने क़ुबूल कर लिया है कि वो IPL में सट्टा लगाते थे. अरबाज़ खान का नाम इस मामले में एक अन्य मामले की जांच के दौरान सामने आया. सट्टेबाज़, सोनू जलान को मंगलवार को गिरफ़्तार किया गया था. सोनू अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सट्टेबाज़ियों में शामिल रह चुका है.

Source- HT

थाणे Anti-Extortion Cell में शनिवार को अरबाज़ से पूछताछ की गई और अरबाज़ ने सट्टेबाज़ी की बात मानी.

ET की ख़बर के अनुसार, सोनू ने पूछताछ के दौरान Anti-Extortion Cell को कई बड़े सेलेब्स के नाम बताये. पुलिस के पास सोनू की डायरी ज़ब्त की है, जिसमें कई बड़ी हस्तियों के नाम हैं.

NDTV की रिपोर्ट के अनुसार, अरबाज़ खान ने ये माना है कि उन्होंने पिछले साल IPL मैचों में सट्टा लगाया था और 2.75 करोड़ रुपये हार गए थे. अरबाज़ ने ये भी बताया कि वे पिछले 6 सालों से IPL में सट्टा लगा रहे हैं लेकिन इस साल कोई सट्टा नहीं लगाया.

ट्विटर पर कुछ लोग अरबाज़ के खिलाफ़ बोल रहे हैं-

वहीं कुछ लोग अरबाज़ को सपोर्ट भी कर रहे हैं-

सवाल ये है कि जब Betting या सट्टेबाज़ी देश में इतनी आम है, तो सिर्फ़ अरबाज़ को ही भला-बुरा कहना कितना सही है? सट्टेबाज़ी को लेकर देश में सख़्त क़ानून भी हैं, लेकिन सट्टेबाज़ों की संख्या में इज़ाफ़ा ही हुआ है.