भगवान के नाम पर लोगों का शोषण सदियों से होता आ रहा है. अर्जेंटिना में भी कुछ ऐसा ही हुआ. Buenos Aires के Lujan de Cuyo स्कूल में पादरियों द्वारा बहरे बच्चों का बलात्कार करने की घिनौनी घटना सामने आई है. इस स्कूल के 24 बच्चों ने स्कूल में हो रहे शोषण के खिलाफ़ शिकायत दर्ज की है.

आरोपियों में से एक पुजारी तो व्हील चेयर पर है, पर हैवानियत की हद पार कर दी इन्होंने.

Roman Catholic Nun, Kosaka Kumiko ने बलात्कारी पादरियों को जुर्म छिपाने में सहायता की. इन 5 पादरियों ने बच्चियों के साथ गार्डन, बाथरूम, स्कूल बेसमेंट, हर जगह दुष्कर्म किया. यानि हैवानों ने बच्चों को कहीं भी नहीं बख्शा. Kosaka को कुछ दिनों पहले गिरफ़्तार किया गया, उन पर भी इल्ज़ाम है कि उन्होंने बच्चों का शारीरिक शोषण किया. अपने ऊपर लगे सभी इल्ज़ाम को Kosaka ने ख़ारिज किया है.

तस्वीरों में Kosaka को नन के ही कपड़ों में पर एक बुलेट प्रुफ़ जैकेट के साथ देखा जा सकता है.

Kosaka के खिलाफ़ पुलिस ने जांच-पड़ताल तब शुरू की, जब एक पीड़िता ने अधिकारियों को बताया कि Kosaka ने उसे Nappy पहनने कहा था ताकि बलात्कार के बाद के ख़ून को रोका जा सके.

स्कूल के बच्चों ने बताया कि पुजारी Nicola Corradi, Horacio Corbacho ने मदर मैरी की मूर्ति के पास बार-बार उनका बलात्कार किया. कोई भी उनकी चीख नहीं सुन सकता था, क्योंकि सारे बच्चे बहरे थे.

पादरी बच्चों का उस वक़्त बलात्कार करते थे, जब बच्चे Confession करने उनके पास आते थे, या खेलने-कूदने जाते थे.

एक पीड़िता ने कहा,

'वो हमेशा कहते थे कि ये एक खेल है. चलो खेलते हैं और वो मुझे लड़कियों के बाथरूम में ले जाते थे.'

पिछले साल नवंबर में इस पूरे घटनाक्रम से जुड़े 5 पुजारियों को गिरफ़्तार किया गया था. पुलिस ने Coradi के कमरे से Porn मैगज़ीन भी बरामद की थी. इल्ज़ाम साबित होने पर इन्हें 10-50 साल तक की सज़ा हो सकती है.

ये है वो स्कूल जहां ये घिनौनी घटनाएं घटी हैं.

धर्म के नाम पर मासूम लड़कियों का यौन-शोषण हर जगह होता है. भारत की देवदासी प्रथा इसका सबसे घिनौना उदाहरण है. देवताओं के दान के नाम पर देवदासियां अब वेश्यवृत्ति के दलदल में फंस जाती हैं.

धर्म के नाम पर अत्याचार बंद होना ही चाहिए. विडंबना तो यही है कि धर्म के आगे इंसान भी छोटा पड़ जाता है.

Source: Metro