Contemporary Female Artists In India: आर्ट वो है, जो भागती ज़िंदगी को ठहराव देती है. अशांत मन को सुकून और शांति देती है क्योंकि आर्ट के ज़रिए उन इमोशंस को बयां किया जा सकता है, जिन्हें बोलकर करना नामुमकिन है. आर्ट हमारी संस्कृति और संस्कार दोनों से जुड़ी होती है, जो हमारी संस्कृति को दर्शाती है. रंगों भरी हो या बेरंग कला कैसी भी हो सुकून ही देती है. ऐसी ही कुछ फ़ीमेल आर्टिस्ट (Contemporary Female Artists In India) हैं, जो कला के ज़रिए ज़िंदगी और दुनिया के उन पहलूओं पर नज़र डालती हैं, जो शब्द नहीं कह पाते.

Contemporary Female Artists In India
Source: stambol

(Contemporary Female Artists In India)

ये भी पढ़ें: आर्टिस्ट की विचित्र और बेमिसाल कला का नमूना हैं, Metal Wire से बनी 13 महान हस्तियों की आकृतियां

Contemporary Female Artists In India

1. कृत्तिका सुसरला (Kruttika Susarla)

नए ज़माने की कला संस्कृति, सौंदर्य, राजनीति और नैतिक आदर्शों को कृतिका सुसरला अपनी आर्ट के ज़रिए दर्शाती हैं. वर्तमान समय में भावनाओं, रिश्तों और मानवता के दृश्य का प्रतिनिधित्व करती हैं.

2. संतोष जैन (Santosh Jain)

कला अब केवल पेंटिंग और स्केचिंग तक सीमित नहीं है, संतोष जैन प्रिंटमेकिंग में पारंगत हैं. इनकी पेंटिंग्स आप उनकी Website पर ऑनलाइन ख़रीद सकते हैं. इनके प्रभावशाली संग्रह को आप इस वेबसाइट पर देख सकते हैं.

3. विधि कोहली (Vidhi Kohli)

अगर आप ऐसी चीज़ों की तलाश में हैं, जो मंत्रमुग्ध कर दें तो विधि कोहली की मिट्टी के बर्तन पर बनी आर्ट आपकी निगाहें रोक लेगीं. इनके द्वारा डिज़ाइन की गई क्रॉकरी को आप अपने शेल्फ़ में सजा कर उसकी शोभा बढ़ा सकते हैं.
ये भी पढ़ें: एक आर्टिस्ट ने इन 29 बेहतरीन इलस्ट्रेशंस में दिखाई कोरोना से जंग लड़ रहे डॉक्टर्स की दास्तां

4. नयनिका चटर्जी (Nayanika Chatterjee)

आर्ट के ज़रिए कई  महिला आर्टिस्ट ज़िंदगी और समाज की सच्चाई को उजागर करने की कोशिश कर रही हैं. इसी में से एक हैं नयनिका चटर्जी, जो एनीमेशन के ज़रिए अपनी आर्ट को लोगों तक पहुंचाती हैं.

5. शिलो शीव सुलेमान (Shilo Shiv Suleman)

The Fearless Collective’ की संस्थापक और निर्देशक, शिलो शिव सुलेमान कमाल के Illustration करती हैं, उनकी कला इंसान और सामाजिक परिवर्तन के बीच केंद्रित है. दुनिया भर में उनकी कला के प्रशंसक हैं.

6. शीला गौड़ा (Sheela Gowda)

शीला गौड़ा रोज़मर्रा की सामग्रियों का उपयोग करते हुए शहरी और ग्रामीण भारत को दिखाने का प्रयास करती हैं, जिसे वो मूर्तिकला, स्थापना कला और फ़ोटोग्राफ़ी के ज़रिए दिखाती हैं. इसमें गाय का गोबर, लाल कुमकुम (हल्दी), धूप, इंसान के बाल, सोने की पत्ती, औपचारिक रंग जैसी सामग्री का इस्तेमाल करती हैं.

Sheela Gowda
Source: cloudfront

7. दयनिता सिंह (Dayanita Singh)

फ़ोटोग्राफ़िक के माध्यम से रोज़मर्रा की ज़िंदगी को दर्शाते हुए दयानिता सिंह वास्तविक दुनिया को कलाकार की कल्पना से निखारती है. इनकी ब्लैक एंड वाइट फ़ोटोग्राफ़्स Installation नामक म्यूज़ियम में और इनकी फ़ेवरेट बुक The Book में प्रस्तुत की गई हैं.

Dayanita Singh
Source: openthemagazine

आर्ट और आर्टिस्ट दोनों ही कमाल की हैं.