आदिवासी सदियों से धरती के सुदूर पहाड़ों, जंगलों, रेगिस्तानों में वास करते आये हैं. मुख्यधारा से अलग इन जनजातियों/कबीलों का रहन-सहन, खान-पान, आचार-व्यवहार, रिवाज़ और संस्कृति, सब काफ़ी अलग होते हैं. 

हम एक ही दुनिया में रहते हुए, अपनी-अपनी अलग दुनिया में रहते हैं. इन दोनों दुनिया के बीच के अंतर को पाटने की हसरत से एक फ़ोटोग्राफ़र ने दुनिया घूमकर इन आदिवासी समुदाय की तस्वीरें ली हैं.    
तो चलिए आपके सामने पेश हैं ये अलहदा तस्वीरें:

1. पापुआ न्यू गिनी के हेला प्रांत में हुली जनजाति की विधवाएं कुछ ऐसे तैयार होती हैं कि वो भूतों की तरह दिखें

2. किसी भी अन्य मध्य अफ़्रीकी सांस्कृतिक समूह की तुलना में Wodaabe जनजाति में ख़ूबसूरती संस्कृति का केंद्र है (चाड)

3. चारी-बागुइरमी क्षेत्र के लोगों के लिए, सुंदरता पुरुषों और महिलाओं के लिए समान रूप से महत्वपूर्ण है! ( Gerewol festival, Chari-Baguirmi region, Chad)

4. परंपरागत रूप से Marquesas Island की महिलाएं अपनी वैवाहिक स्थिति दिखाने के लिए एक कान में इयररिंग पहनती हैं: शादीशुदा के लिए दाएं और कुंवारी के लिए बाएं कान में

5. माउंट बोसावी के ये बच्चे भी अपनी अलग पहचान रखते हैं (Papua New Guinea)

6. भारत में रबारी जनजाति के मर्दों में बड़ी-बड़ी ढाढ़ी-मूंछें रखने का चलन है

7. ये पंखों से बनी टोपी पापुआ न्यू गिनी के आदिवासी लोगों के पहनावे का हिस्सा है

8.  इन Facial Tattoos को Tā moko कहा जाता है और न्यूजीलैंड में माओरी जनजाति में पुरुष इसे गर्व के साथ गुदवाते हैं

9.  ये लड़का इंडोनेशिया के याली आदिवासी समूह से संबंध रखता है

10. Mount Bosavi के Kaluli जनजाति के लोग अपने पूर्वजों द्वारा शिकार किए गए Cockatoos पक्षी से सफ़ेद पंख पहनते हैं

11. पापुआ न्यू गिनी अपने Kaluli जनजाति के योद्धाओं के लिए जाना जाता है

12. Gerewol Festival में Wodaabe कबीले के पुरुष ये कपड़े पहनते हैं

13. न्यूजीलैंड के माओरी लोगों ने संस्कृतियों को मिलते देखा है ... और ये बेहतरीन टोपी उसकी निशानी है

14.  Wodaabe कबीले के लोग Animists होते हैं जो आत्माओं को प्राकृतिक घटनाओं से जुड़ा मानते हैं

ये भी पढ़ें: दुनियाभर के इन 14 कबीलों में बच्चे को देनी पड़ती है मर्द बनने की परीक्षा, ऐसी मर्दानगी से मौत भली

15. ये तंजानिया में मासाई जनजाति का एक व्यक्ति है जिसकी टोपी शुतुरमुर्ग के पंखों से बनी है

16. ये शिकारी साइबेरिया के याकूतिया इलाक़े का रहने वाला है. इनका मानना ​​है कि एक अच्छा शिकारी होने का मतलब केवल प्रकृति से लेना नहीं है, बल्कि उसे वापस देना भी है

17. ऐसा कहा जाता है कि लद्दाख के लोगों की संस्कृति तिब्बत की संस्कृति से मिलती-जुलती है

18. Huli Wigmen, पापुआ न्यू गिनी 

ये भी पढ़ें: इरुला: तमिलनाडु की वो जनजाति, जो प्राचीन समय से लोगों को दे रही हैं नई ज़िन्दगी 

19. नेपाली पहनावा 

20. The Marquesas, French Polynesia

बोनस: फ़ोटोग्राफ़र जिन्होंने खिंची हैं ये सारी तस्वीरें  

जिमी नेल्सन का काम अद्भुत है, उन्होंने और भी बहुत तस्वीरें अपने विभिन्न सोशल मीडिया अकाउंट: ट्विटरफेसबुकपिंटरेस्ट और यूट्यूब पर भी साझा की हैं.