अंग्रेज़ों ने भारत में सिर्फ़ राज ही नहीं किया, बल्कि हिंदुस्तानियों की मानसिकता को भी अपने वश में करने की कोशिश की. उस दौरान देश में कुछ ऐसे क्रांतिकारियों का जन्म हुआ, जिन्होंने देश में ब्रिटिश हुक़ूमत के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाई. देश के लिये मर-मिटने की क़सम खाने वालों में एक चंद्रशेखर आज़ाद भी थे.

चंद्रशेखर आज़ाद
Source: redd

जब धरती पर पैदा हुआ देश का सबसे निराला क्रांतिकारी 

23 जुलाई 1906 वो दिन था जब मध्यप्रदेश के क़रीब आदिवासी गांव भांवरा में पंडित चंद्रशेखर आज़ाद का जन्म हुआ. उनकी मां चाहती थीं कि वो बड़े होकर संस्कृत के विद्वान बनें. बेटे को विद्वान बनाने के लिये उन्हें काशी विद्यापीठ भेज दिया गया. उसी समय देशभर में महात्‍मा गांधी के असहयोग आंदोलन की लौ जल रही थी. चंद्रशेखर आज़ाद भी महात्मा गांधी के विचारों से प्रेरित होकर आंदोलन का हिस्सा बन गये. उस समय उनकी उम्र महज़ 15 साल थी. 

निराला क्रांतिकारी
Source: indiatimes

लाहौर में अंग्रेज़ अफ़सर से लिया लाला लाजपत राय की मौत का बदला 

30 अक्टूबर 1928 को लाला लाजपतराय और कुछ युवा लाहौर की सड़कों पर साइमन का विरोध कर रहे थे. इस दौरान पुलिस ने लाठीचार्ज शुरु की और लाजपतराय की छाती पर बेहरमी से लाठियां बरसाईं. लाठीचार्ज में वो बुरी तरह घायल हो गये, जिसके बाद 17 नवंबर को वो ज़िंदगी से जंग हार गये. इसके बाद भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव और चंद्रशेखर आज़ाद जैसे क्रांतिकारियों ने मिल कर लाजपतराय की मौत का बदला लेने का फ़ैसला किया.  

ये भी पढ़ें: चन्द्रशेखर आज़ाद: वो कल भी आज़ाद था, वो आज भी आज़ाद है और हमेशा आज़ाद रहेगा! 

लाला लाजपत राय की मौत का बदला
Source: indiatimes

भारत के वीर लाजपतराय की मौत को एक महीना ही बीता था कि चंद्रशेख़र आज़ाद ने उनकी मौत का बदला भी ले लिया. 1928 में उन्होंने लाहौर में रह कर ब्रिटिश पुलिस अधिकारी एसपी सॉन्डर्स को गोली मार कर लाजपतराय की शहादत का बदला लिया.

मरते दम तक पुलिस उन्हें पकड़ नहीं पाई थी 

27 फरवरी 1931 वो दिन था जब पुलिस को पता चला कि वीर चंद्रशेखर आज़ाद अल्‍फ्रे़ड पार्क में हैं. इस दौरान उनके साथ सुखदेव भी थे. इधर पुलिस गोलीबारी करती रही, लेकिन फिर भी वो चंद्रशेखर आज़ाद को नहीं पकड़ पाई. पुलिस से बचने के लिये चंद्रशेखर आज़ाद पेड़ के पीछे छिप गये और बंदूक में मौजूद आखिरी गोली उन्होंने ख़ुद को मार ली. 

चंद्रशेखर आज़ाद death
Source: twimg

भारत माता के वीर सपूत और हिंदुस्तान के शौर्य को शत्.. शत्... नमन!