भारत को विविधताओं का देश कहा जाता है. खान-पान से लेकर यहां पहनने-ओढ़ने तक में विविधता दिख जाएगी. वहीं, अगर हम भाषाओं की बात करें, तो यह देश इसमें भी धनी है. Censusindia की वेबसाइट के अनुसार, भारत में कुल 121 भाषाएं और 270 बोलियां बोली जाती हैं. है न कमला की बात! वहीं, वैश्वीकरण के दौर में कई भारतीय भाषाओं को भारत के अलावा अन्य देशों में भी बोला जाता है. आइये, इसी क्रम में हम आपको बताते हैं भारत की उस प्राचीन भाषा के बारे में जिसे सात देशों में बोला जाता है.    

विश्व की प्राचीन भाषाओं में से एक   

tamil language
Source: britannica

दक्षिण भारत में बोली जाने वाली तमिल भाषा को न सिर्फ़ भारत बल्कि विश्व की प्राचीन भाषाओं में से एक माना जाता है. ऐसा माना जाता है कि यह प्राचीन भाषा 5000 साल पहले भी अस्तित्व में थी, यानी इसे उस समय भी लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाता था.   

तमिल भाषा से जुड़े शिलालेख   

tamil
Source: wikipedia

वहीं, तमिल भाषा से जुड़े जो शिलालेख प्राप्त हुए हैं उनसे पता चलता है कि यह तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व की भाषा हो सकती है यानी यह एक प्राचीन जीवंत भाषा है, जिसका अस्तित्व आज भी जारी है, जबकि कई प्राचीन भाषाओ का अस्तित्व समय के साथ अस्तित्व ख़त्म हो गया.   

एक लोकप्रिय भाषा   

tamil
Source: tamilculture

भारत के तमिलनाडु राज्य की यह ऑफ़िशियल भाषा है. वहीं, यह विश्व के कई देशों में भी बोली जाती है, जिनमें श्रीलंका, मलेशिया, सिंगापुर, मॉरीशस, रियूनियन और वियतनाम शामिल हैं. वहीं, जानकर आश्चर्य होगा सिंगापुर और श्रीलंका में तमिल को आधिकारिक भाषा का दर्जा मिला हुआ है. इसके अलावा, मिस्र में भी तमिल बोलने वाले कई लोग दिख जाएंगे.  

बोलने वालों की संख्या  

tamil
Source: logically.ai

एक अनुमान के तौर पर तमिल को पहली भाषा के रूप में 6 करोड़ 80 लोग इस्तेमाल करते हैं. वहीं, 90 लाख से अधिक लोग इसे दूसरी भाषा के रूप में प्रयोग में लाते हैं.   

कई अख़बारों की भाषा   

tamil
Source: thequint

तमिल का प्रभाव इस तथ्य से भी लगाया जा सकता है कि तमिल भाषा में कई अख़बार और पत्रिकाएं भी निकलती हैं. इसके अलावा तमिल भाषा के कई न्यूज़ चैनल्स भी हैं. 

संस्कृत भी है प्राचीन भाषा   

sanskrit
Source: organiser

सिर्फ़ तमिल ही नहीं संस्कृत को भी विश्व की सबसे प्राचीन भाषाओं में गिना जाता है. हालांकि,  संस्कृत ज़्यादा पुरानी है या तमिल, इस विषय को लेकर अभी भी बहस जारी है. वहीं, कुछ लोग ऐसी भी हैं जो इन दोनों भाषाओं को समकालीन बताते हैं. वैसे बता दें कि संस्कृत लुप्त होती नज़र आ रही है. एक अनुमान के अनुसार इस भाषा को बोलने वालों की संख्या अब 14135 रह गई है.