Jagannath Rath Yatra 2022: हर साल ओडिशा के पुरी में भगवान जगन्नाथ की भव्य रथ यात्रा (Rath Yatra) निकाली जाती है. इस यात्रा में अलग-अलग रथों पर भगवान विष्णु के अवतार जगन्नाथ, उनके भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा को बैठा कर उन्हें पूरे शहर में घुमाया जाता है. सैकड़ों साल से मनाए जाने वाले इस उत्सव को देखने देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं.  

Jagannath Rath Yatra significance
Source: epapr

इस बार रथ यात्रा कब शुरू होगी, कितने दिनों तक चलेगी और इसे कैसे देख सकते हैं, इन सारे सवालों के जवाब लेकर आए हैं हम. चलिए मिलकर जानते हैं रथ यात्रा से जुड़ी सब डिटेल्स…  

ये भी पढ़ें: भारत ही नहीं, बल्कि इन 10 देशों के कई शहरों में भी बड़े ही धूम-धाम से निकाली जाती है रथ यात्रा

इस दिन शुरू होगी रथ यात्रा (Rath Yatra 2022 Date and Time)

Jagannath Rath Yatra importance
Source: financialexpress

रथ यात्रा (Rath Yatra) की शुरुआत हर साल आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की द्वितीया को होती है. इस साल ये यात्रा 1 जुलाई 2022 को निकाली जाएगी. भगवान जगन्‍नाथ, अपनी बहन सुभद्रा और भाई बलभद्र के साथ रथ पर सवार होकर गुंडिचा मंदिर जाते हैं. ये उनकी मौसी का घर कहलाता है, यहां वो 7 दिन तक विश्राम करते हैं.    

ये भी पढ़ें:  जगन्नाथ रथ यात्रा की इन बातों पर शायद आपने गौर नहीं किया होगा

जगन्नाथ रथ यात्रा 2022 (Jagannath Rath Yatra) का शेड्यूल   

Jagannath  Yatra
Source: indiatvnews

8 जुलाई को भगवान जगन्नाथ संध्या दर्शन देंगे. 

9 जुलाई को बहुदा यात्रा निकलेगी.
10 जुलाई को सुनाबेसा होगा. 
11 जुलाई को आधर पना होगा.

Jagannath Rath
Source: blogspot

घर बैठे यहां से लाइव देखें रथ यात्रा (Rath Yatra 2022 Live Watch)

  Rath Yatra
Source: thehindu

रथ यात्रा का लाइव प्रसारण लगभग सभी उड़िया चैनल्स पर होता है. इसके अलावा डीडी नेशनल चैनल पर भी इसका सीधा प्रसारण दिखाया जाता है. इंटरनेट यूजर्स के लिए National Informatics Centre की वेबसाइट पर भी इसका लाइव टेलीकास्ट किया जाता है.   

रथ यात्रा के रथ भी होते हैं ख़ास  

Jagannath
Source: amarujala

अक्षय तृतीया से ही जगन्‍नाथ रथ यात्रा के तीनों रथों का निर्माण कार्य शुरू हो जाता है. इसके लिए वसंत पंचमी से लकड़ी एकत्रित की जाने लगती है. इन रथों को बनाने के लिए लकड़ी एक विशेष जंगल दसपल्ला से लाई जाती है. इन्हें केवल श्रीमंदिर के बढ़ई (कारपेंटर) ही बनाते हैं.