राष्ट्र प्रेम हर भारतीय सैनिक के लहू में बहता है. इसलिए वो देश के लिए अपनी जान तक क़ुर्बान करने को तैयार रहते हैं. देश के ऐसे ही वीर सैनिक की कहानी आज हम आपको बताएंगे. इन्होंने नक्सलियों से लोहा लिया और 250 से अधिक बम डिफ़्यूज़ कर हज़ारों लोगों की जान बचाई. इन्हें पूरा राष्ट्र स्टील मैन ऑफ़ इंडिया के नाम से जानता है. 

ये भी पढ़ें:   भारतीय सेना में होते हैं ये रैंक, तो पढ़ लो और सेना के बारे में ज्ञान बढ़ा लो 

इंडियन आर्मी के Expert Bomb Diffuser

Narendra Singh Choudhary army
Source: ssbcrack

हम बात कर रहे हैं इंडियन आर्मी के Expert Bomb Diffuser नरेंद्र सिंह चौधरी की. ये राजस्थान के पाली ज़िले के रहने वाले थे. उन्होंने बम को डिफ़्यूज करने की कम शिक्षा हासिल की थी, लेकिन अपनी लगन और आर्मी की ट्रेनिंग के बाद वो एक एक्सपर्ट बन गए थे. उन्होंने लगभग एक दशक तक देश की सेवा की. 

ये भी पढ़ें: सूबेदार जोगिंदर सिंह: 1962 के युद्ध का वो सैनिक जिसने बिना हथियार 200 चीनियों का किया था सामना 

256 बम डिफ़्यूज कर बचाई हज़ारों लोगों की जान

Expert Bomb Diffuser
Source: amazonaws

अपने करियर में नरेंद्र सिंह चौधरी ने लगभग 256 बम डिफ़्यूज किए थे. उनकी प्रतिभा को देखते हुए उन्हें अकसर नक्सल प्रभावित इलाकों में तैनात किया जाता था, जहां नक्सली लैंड माइन बिछा कर लोगों और सेना पर हमला करते थे. इसी कारण नरेंद्र सिंह चौधरी नक्सलियों के निशाने पर भी रहते थे. उनके साथियों का कहना है कि वो 50 किलोमीटर तक बिना खाए-पिए दौड़ लेते थे. वो एक निडर और साहसी सैनिक थे और बम डिफ़्यूज करते समय अपनी टीम को दूर ही रखते थे. वो भारत के दुर्गम इलाकों में भी आसानी से सर्वाइव कर जाते थे.

अपनी मौत की थी भविष्यवाणी

Narendra Singh Choudhary steel man of india
Source: scrolldroll

नरेंद्र सिंह चौधरी जी ने स्वयं अपनी मौत की भविष्यवाणी की थी. उनका कहना था कि वो बम डिफ़्यूज करते हुए परलोक सिधारेंगे. ये कहते हुए अकसर वो हंसने लगते थे. उनका ये कथन सही भी हुआ जब वो एक ड्रिल के दौरान बम को डिफ़्यूज कर रहे थे तो वो अचानक फट गया. उन्होंने मौके पर ही दम तोड़ दिया था. उन्हें सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई थी. 

भारत के इस वीर सपूत को हमारा शत-शत नमन.