दुनिया में एक से बढ़कर एक ड्रग माफ़िया हुए हैं, लेकिन पाब्लो एमिलियो एस्कोबार गैविरिया (Pablo Emilio Escobar Gaviria) जैसा कोई नहीं. पाब्लो एस्कोबार पूरी दुनिया में 'किंग ऑफ़ कोकेन' (King Of Cocaine) के नाम से कुख़्यात था. पाब्लो इतना शातिर और ख़तरनाक था कि दूसरे खूंखार तस्कर भी उसे हफ़्ता देते थे. इतना ही नहीं दुश्मनों ने पाब्लो को मारने के लिए 16 अरब रुपये खर्च कर डाले थे.

ये भी पढ़ें- ये हैं दुनिया के 10 सबसे ख़तरनाक माफ़िया गैंग, अपनी हैवानियत के लिए हैं कुख़्यात 

Source: ultrasawt

पाब्लो एस्कोबार का जन्म 1 दिसंबर 1949 को कोलंबिया के राइनग्रो में हुआ था. पाब्लो के पिता किसान, जबकि मां टीचर थीं. नशीली दवाओं के व्यापार में आने से पहले, एस्कोबार चोरी की कारों के व्यवसाय में भी शामिल था. साल 1976 में 27 वर्षीय एस्कोबार ने 15 साल की मारिया विक्टोरिया हेनाओ वेलेजो से शादी की थी. पाब्लो और मारिया के 2 बच्चे हैं.

Source: aajtak

पाब्लो को मारने के लिए दुश्मनों ने ख़र्च किये 16 अरब रुपये

पाब्लो 1970 के दशक में कोकेन के अवैध कारोबार में कदम रखा था. इस दौरान उसने अन्य माफ़ियाओं के साथ मिलकर 'मेडेलिन कार्टेल' बनाया था. पाब्लो ने ड्रग्स के धंधे में अकूत पैसा कमाया था. सन 1980 के दशक में दुनियाभर के क़रीब 80 फ़ीसदी बाज़ार पर पाब्लो के 'मेडेलिन कार्टेल' की भागेदारी थी. इतने बड़े अवैध धंधे के कारण एस्कोबार के काफ़ी दुश्मन भी थे. पाब्लो को मरवाने के लिए उसके दुश्मनों ने क़रीब 16 अरब रुपये खर्च कर डाले थे, लेकिन उन्हें कोई सफ़लता नहीं मिल सकी.

पाब्लो ने करवाई 4,000 लोगों की हत्या

पाब्लो एस्कोबार के कारोबार में जिस किसी ने भी टांग अड़ाई पाब्लो ने उसकी हत्या करवा दी. अपने दुश्मन की कार को बम से उड़ाना हो या फिर किसी बड़े नेता की जान लेना. पाब्लो के लिए ये सब मामूली बात हो गई थी. उसने पैसेंजर से भरी फ़्लाइट तक को उड़वा दिया था. इतना ही नहीं कोलंबिया का राष्ट्रपति बनने के लिए उसने सुप्रीम कोर्ट तक को बम से उड़ा दिया था. बताया जाता है कि पाब्लो ने क़रीब 4,000 लोगों की हत्या करवाई थी, जिसमें क़रीब 200 न्यायाधीश और 1,000 पुलिस, पत्रकार और सरकारी अधिकारी शामिल थे.

Source: aajtak

2,500 अमेरिकी डॉलर 'रबर बैंड' पर ख़र्च

पाब्लो एस्कोबार के बारे में कहा जाता है कि, उसने ड्रग्स के धंधे से इतना पैसा कमा लिया था कि, उसकी पूरी कमाई का 10 फ़ीसदी हिस्से को या तो चूहे कुतर गए या फिर उन्हें दीमक लग गई थी. एस्कोबार ने पास इतना कैश था कि वो हर महीने क़रीब 2,500 अमेरिकी डॉलर तो सिर्फ़ 'रबर बैंड' पर ही खर्च कर देता था, जिससे वो अपने पैसों को बांध सके. पाब्लो के पास अमेरिका के मशहूर मियामी बीच पर 6500 वर्ग फ़ीट में फ़ैला एक आलीशान बंगला भी था.

Source: aajtak

ये भी पढ़ें- कहानी अमेरिकिा के उस स्मग्लर की जो शवों के ज़रिये करता था ड्रग्स की तस्करी

पाब्लो एस्कोबार के पास इतना पैसा था कि उसने अपनी नकदी (कैश) एक स्थान से दूसरे स्थान भेजने के लिए भी एक प्राइवेट जेट रखा हुआ था. इसके अलावा पाब्लो ने कोलंबिया के प्यर्टो ट्रायंफो में अपनी काली कमाई से निजी चिड़ियाघर भी बनवाया था. इसमें हिप्पो, ज़िराफ़, हाथियों के अलावा कई अन्य जानवर थे.

Source: apnews

मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जाता है कि, एक बार पाब्लो एस्कोबार की बेटी मैनुला, बीमार हो गई थी तो उसे पूरी रात गर्म रखने के लिए एस्कोबार ने लगभग 2 मिलियन डॉलर (15 करोड़ रुपये) जला दिए थे.

Source: wikidata

तस्करी के लिए रखी थी पन्नडुब्बी

पाब्लो एस्कोबार विमान के टायरों में कोकीन को छुपाकर एक देश से दूसरे देश भेजता था. इसके लिए वो प्लेन के पायलटों को लाखों डॉलर की घूस देता देता था. पाब्लो का व्यवसाय इतना बड़ा और विस्तृत था कि विमानों, हैलीकॉप्टर, कारों, ट्रकों और नावों के अलावा उसने अमेरिका कोकीन ले जाने के लिए 2 पनडुब्बियां भी ख़रीदी थीं.

Source: aetv

पाब्लो एस्कोबार हर दिन 15 टन कोकीन की तस्करी करता था. पाब्लो ने एक बार 51,000 पाउंड कोकीन का एक शिपमेंट अमेरिका भेजा था, लेकिन कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बावजूद वो अधिकारियों के पकड़ में नहीं आया. हालांकि, 1980 के दशक में कोलंबिया के अधिकारियों ने एस्कोबार के कुछ विशाल बेड़े ज़ब्त ज़रूर किये थे. इनमें 142 विमान, 20 हेलीकॉप्टर, 32 नौका और 141 घर और कार्यालय शामिल थे.

पाब्लो की ताकत का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने कोलंबियाई सरकार पर दबाव बनाकर अपने लिए ख़ुद ही ख़ास जेल तैयार कराई थी. इस दौरान उसने शर्त रखी थी कि जेल के कुछ किलोमीटर तक पुलिस नहीं आ सकती है.

Source: nbcnews

पाब्लो एस्कोबार अमेरिका की जेलों में जाने से डरता था. वो चाहता था कि उसकी जिंदगी के आखिरी दिन अमेरिका की जेलों में ना बीते. इसके लिए पाब्लो ने अमेरिका के सामने कोलंबिया के पूरे कर्ज़ को उतारने की पेशकश तक कर दी थी. बदले में उसने प्रत्यर्पण क़ानून में बदलाव की मांग भी की थी. पाब्लो को 44 साल की उम्र में गोली मार दी गई थी. लेकिन कुछ लोग मानते हैं कि उसने ख़ुद को गोली मार ली थी क्योंकि वो किसी भी क़ीमत पर अमेरिका की जेल में नहीं जाता चाहता था.

Source: wikipedia

बता दें कि 2 दिसंबर 1993 को 44 वर्षीय पाब्लो एस्कोबार को पुलिस ने मार गिराया गया था. लेकिन मौत के पहले उसने पुलिस और सेना को खूब छकाया था. भीषण आतंक मचाया था.