कहते हैं कि कैसी भी परिस्थिति क्यों न आए, इंसान को कभी हार नहीं माननी चाहिए. इंसान अगर ठान ले, तो वो कुछ भी कर सकता है. आपको 'मांझी द माउंटेन मैन' तो याद होंगे, जिन्होंने पहाड़ को काटकर रास्ता बना दिया था. दुनिया में ऐसे कई उदाहरण हैं, जिन्होंने वो कमाल कर दिखाया, जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती है. वैसे इस आर्टिकल में हम जिस शख़्स के बारे में आपको बताने जा रहे हैं उसने मौत को चुनौती दे डाली थी. आइये, जानते हैं कौन था वो शख़्स और क्या है उसकी कहानी.   

पून लीम की कहानी   

poon lim
Source: wikipedia

यह समय था World War 2 का, तब पून लीम केवल 21 साल के थे. 1942 में SS Benlomond नामक ब्रिटिश जहाज़ में वो नाविक बने. यह जहाज़ दूसरी जगहों पर सामान को लाने व ले जाने का काम करता था. लेकिन, एक दिन एक जर्मन पनडुब्बी U172 की नज़र इस जहाज पर पड़ गई. उसी वक्त से पून लीम की ख़ुद को ज़िंदा रखने की कहानी शुरू हो गई.   

जहाज़ पर किया गया हमला   

ship
Source: wallpaperflare

SS Benlomond की ख़बर मिलते ही इस पर हमने की तैयारी की गई. U172 जर्मन पनडुब्बी ने पून लीम के जहाज़ पर लगातार दो टॉरपिडो लॉन्च किए. तब लीम का जहाज़ अमेज़न नदी पर तैर रहा था. यह टॉरपिडो हमला इतना ज़ोरदार था कि लीम का जहाज़ एक ओर झुक गया और जहाज़ के दो बॉयलर फट गए. यह जहाज़ डूब गया और 54 क्रू मेंबर्स में से सिर्फ 6 ज़िंदा बचे.   

लीम को मिल गई थी लाइफ जैकेट   

poon lim
Source: wikipedia

पूल लीम भाग्यशाली थे कि उन्हें लाइफ जैकेट मिल गई थी. जिंदा बचे लोग एक साथ मिल न पाए और वो दक्षिण अटलांटिक सागर में इधर-उधर बहने लगे. लीम पानी में लगभग 2 घंटे तक तैरते रहे, बाद में उन्हें एक लकड़ी की तख़्ती मिली, जिस पर वो चढ़ गए. वो लकड़ी की तख़्ती लगभग 8 स्क्वायर फ़ुट की थी. इस लकड़ी की तख़्ती पर लीन को पानी का 40 लीटर का जग, कुछ चॉकलेट, बिस्कुट के डब्बे, फ़्लैशलाइट, फ़्लेयरर्स और 2 स्मोक पॉट मिल गए थे.   

मौत को दी चुनौती   

poon lim
Source: outdoorrevival

लीम एक ख़तरनाक हालत में थे. समंदर में दूर-दूर तक कोई मदद करने वाला नहीं था. उनकी जिंदगी उस तख़्ती तक ही सिमट गई थी. उनके बिस्कुट के पैकेट और चॉकलेट भी ख़त्म हो गई थी. लीन ने उस तख़्ती पर ही मछली पकड़ने का इंतज़ाम कर लिया था. वो मछली को पकड़ते और जिस लकड़ी की तख़्ती पर वो सवार थे, उस पर ही मछली को सुखाते और खाते. मछली को काटने के लिए उन्होंने बिस्कुट के टीन के डब्बे से ही छुरी बना ली थी.
ये भी पढ़ें : दुनिया के 13 सबसे बड़े इंडस्ट्रियल हादसे, जिनके बारे में जानकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे

परीदें का ख़ून पीकर अपनी भूख मिटाई   

poon lim
Source: amboyguardian

पून लीम किसी तरह अपनी जान बचाने की कोशिश में लग थे. अचानक एक समुद्री तूफ़ान आया और लीम की पकड़ी हुई मछलियों और पीने के पानी को ख़राब कर दिया. कहते हैं कि लीम ने अपनी भूख मिटाने के लिए एक परिंदे को पकड़ा और उसका ख़ून पिया. अब आप सोच सकते हैं कि लीम किन हालातों में थे.   

कोई नहीं आया मदद के लिए   

poon lim story
Source: elitereaders

कहा जाता है कि पून लीम को समंदर में कई जहाज़ों ने लीम को देखा था, लेकिन लीम एशियाई मूल के थे, इसलिए कोई भी उनकी मदद के लिए आगे नहीं आया. जर्मन लोगों ने भी लीम को देखा था, लेकिन वो भी उनकी मदद के लिए आगे नहीं आए. वहीं, जब अमेरिकी फ़ायरमैन ने पून लिम को जैसे ही देखा, समुद्री तूफ़ान उन्हें बहा ले गया.   

मछुआरों ने बचाई उनकी जान   

poon lim
Source: wikipedia

लीम को ब्राज़ील के पास तीन मछुआरों ने देखा और उनकी जान बचाई. वो 133 दिनों तक सिर्फ लकड़ी की तख़्ती के सहारे समंदर में तैरते रहे. कहा जाता है कि लीन का वजन 9 किलो कम हो गया था और वो 4 हफ़्तों तक अस्पताल में भर्ती थे.