भारत अपनी कई विशषेताओं के साथ कुख़्यात डाकूओं के लिए भी जाना गया है. भारत के इतिहास में एक समय ऐसा भी आया जब देश के कई हिस्से डाकुओं के क़हर से पीड़ित थे. जिसमें चंबल शीर्ष पर था. वहीं, दक्षिण भारत के जंगल भी ख़तरनाक डाकुओं का अड्डा बने. इनमें सबसे कुख़्यात 'वीरप्पन' का नाम आता है. वीरप्पन से न सिर्फ़ तमिलनाडु बल्कि कर्नाटक की पुलिस को भी काफ़ी परेशान किया था. 

कहा जाता है कि जिस दिन पुलिस ने वीरप्पन को पकड़ा था, तो उस पर लगातार 338 राउंड गोलियां चलाई गई थीं. आइये, इस लेख के ज़रिए जानते हैं वीरप्पन से जुड़े कुछ अनसुने क़िस्से, जिनके बारे में अधिकतर लोगों को नहीं पता.  

इंसानों और हाथियों की हत्या का आरोप

veerappan
Source: newindianexpress

कहा जाता है कि वीरप्पन पर 2 हज़ार से अधिक हाथियों और 184 लोगों की हत्या का आरोप था. जानकारों के अनुसार, उसने मात्र 17 साल की उम्र में पहला हाथी मारा था. कहते हैं कि वो हाथी के सिर के बीचों-बीच गोली मारता था.    

चंदन का तस्कर  

veerappan
Source: newsbytesapp

वीरप्पन दक्षिण भारत के जंगलों में चंदन की तस्करी करता था. इसके अलावा, वो हाथियों का अवैध शिकार, हाथी दांत की तस्करी, अपहरण और अन्य ग़ैर-क़ानूनी काम करता था.   

पकड़ने के लिए बेहिसाब पैसा किया गया ख़र्च  

veerappan
Source: qpnews4u

जानकर हैरानी होगी कि कुख़्यात वीरप्पन को पकड़ने के लिए लगभग 20 करोड़ रूपए ख़र्च किए गए थे. माना जाता है कि प्रतिवर्ष उसे पकड़ने के लिए 2 करोड़ ख़र्च आता था. इस तथ्य से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि वो कितना ख़तरनाक डाकू था.   

मशहूर फ़िल्म अभिनेता का किया था अपहरण  

actor rajkumar
Source: karnatakaratna

वीरप्पन ने सन् 2000 में कन्नड फ़िल्मों के मशहूर अभिनेता ‘राजकुमार’ का अपहरण कर लिया था. जानकर हैरानी होगी कि अभिनेता राजकुमार लगभग 100 दिनों तक वीरप्पन के चंगुल में रहे थे. लेकिन, इस घटना के बाद वीरप्पन को पकड़ने का काम जोरों शोरों से शुरू हो गया था.   

विजय कुमार   

vijay kumar
Source: opindia

वीरप्पन को पकड़ने के लिए जो स्पेशल टास्क फ़ोर्स बनाई गई थी, उसके प्रमुख विजय कुमार थे. वीरप्पन को पकड़ने के ऑपरेशन पर विजय कुमार ने एक किताब (Veerappan Chasing the Brigand) भी लिखी थी. इस किताब में उन्होंने लिखा था कि वीरप्पन को मार गिराने के काम में चार साल का वक़्त लग गया था. 

विजय कुमार किताब में कहते हैं कि 2001 में उन्हें तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता का फ़ोन आया था. फ़ोन पर उन्होंने कहा कि आपको वीरप्पन को पकड़ने के लिए एसटीएफ़ का प्रमुख बनाया जाता है. 

वीरप्पन की एक आंख में परेशानी  

veerappan
Source: deccanherald

जैसे ही विजय कुमार को वीरप्पन को पकड़ने की ज़िम्मेदारी दी गई, उन्होंने वीरप्पन से जुड़ी खुफ़िया जानकारी एकत्रित करना शुरू कर दिया था. इस दौरान उन्हें पता चला कि वीरप्पन अपनी बात आगे पहुंचाने के लिए वीडियो या ऑडियो टेप का सहारा लेता है. 

एक ऐसा ही वीडियो टेप विजय कुमार के हाथ लगा, जिसमें पता चला का वीरप्पन की एक आंख में परेशानी है. विजय कुमार ने अंदाज़ा लगाया कि वो आंख के इलाज के लिए जंगल से बाहर ज़रूर आएगा.   

ऑपरेशन ककून   

Source: bbc

विजय कुमार को पता चला कि वीरप्पन अपनी आंख का इलाज कराने की तैयार कर रहा है. फिर क्या था, विजय कुमार ने पूरी तैयार कर ली. आंख का इलाज कराने के लिए उसे जंगल से बाहर आने के लिए मजबूर किया गया. तैयारी के तहत एक नक़ली एम्बुलेंस तैयार की गई और उसमें दो पुलिस वालों को बैठा दिया गया, एक को ड्राइवर और दूसरे को वार्ड बॉय बनाकर. वीरप्पन उस एम्बुलेंस में बैठ गया. तय जगह पर पहुंचने के बाद ड्राइवर ने ज़ोर से ब्रेक लगाया और उतरकर विजय कुमार को चिल्लाकर बताया कि वीरप्पन अंदर बैठा है.   

338 राउंड गोलियां

vijay kumar and team member celebrating after veerappan encounter
Source: swarajyamag

कहते हैं कि विजय कुमार ने वीरप्पन को चेतावनी दी, लेकिन जब वो नहीं माना, तो उस पर एसटीएफ़ ने 338 राउंड गोलियां चलाई. लेकिन, उनमें से दो ही गोलियां वीरप्पन के शरीर को भेद पाईं. रात 10:50 पर शुरू हुआ एनकाउंटर मात्र 20 मिनट में ख़त्म हो गया. 

विजय कुमार ने कहा था कि अगर वीरप्पन 18 अक्टूबर को न आता, तो पता नहीं उसका आतंक कब तक लोगों को झेलना पड़ता.