Merry Christmas 2021: क्रिसमस ऐसा त्यौहार है जो पूरी दुनिया में धूम-धाम से मनाया जाता है. इस दिन लोग क्रिसमस ट्री को लाइट्स, रिबन, गिफ़्ट, टॉफ़ी आदि से सजाते हैं. क्रिसमस(Christmas) के दिन लोग एक-दूसरे के साथ पार्टी करते हैं, घूमते हैं और चर्च में प्रार्थना करते हैं.

christmas day
Source: wikipedia

25 दिसंबर की रात को यीशू को याद कर उनका जन्मदिन मनाते हैं, लेकिन कभी आपने सोचा है आख़िर 25 दिसंबर को ही क्रिसमस क्यों मनाते हैं और क्या है इसके पीछे की कहानी? चलिए आज आपके इन सवालों का जवाब हम दिए देते हैं. 

ये भी पढ़ें: क्या कोका-कोला की वजह से सैंटा की ड्रेस लाल है? बनाने वाले ने हरे रंग का सैंटा भी बनाया था

Merry Christmas 

25 दिसंबर को ही क्यों मनाते हैं क्रिसमस?(Christmas Day History)

christmas day history
Source: huffingtonpost

Christmas Day History: वैसे तो 25 दिसंबर को इशू का जन्मदिन नहीं होता. बाइबल में भी उनके जन्म की कोई फ़िक्स तारीख़ नहीं बताई गई है. लगभग 3 सदी से अधिक समय तक जीज़स का बर्थडे मनाने की कोई तय तारीख़ नहीं थी. पोप जूलियस प्रथम ने पहली बार 350 ईस्वी में इस तारीख़ को ईश्वर का जन्मदिन मनाने के लिए चुना था. 529 ईस्वी में रोमन सम्राट Justinian ने औपचारिक रूप से 25 दिसंबर को जीज़स का जन्मदिन सेलिब्रेट करने के सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की थी. 

ये भी पढ़ें: क्रिसमस ट्री बहुत से देखे होंगे, मगर ऐसे 30 क्रिएटिव Christmas Tree पहले कभी नहीं देखे होंगे 

क्रिसमस का महत्व(Christmas Day Importance)

why Christmas is celebrated on 25th December
Source: wordpress

सदियों से क्रिसमस दुनिया के सबसे बड़े त्यौहारों में से एक रहा है. क्रिसमस का ये त्यौहार बॉक्सिंग डे यानी 26 दिसंबर तक चलता है. इस त्यौहार को ईसा मसीह के जन्मदिन के रूम में मनाया जाता है. ईसाई धर्म के लोगों के लिए जीज़स का जन्मदिन बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इस दिन ईश्वर ने अपने पुत्र(Nazareth) को धरती पर भेजा था. ईसाई धर्म के लोगों का मानना है कि इस दिन ईश्वर ने अपने पुत्र को पृथ्वी पर भेजा ताकि एक दिन यहां के भूत, भविष्य और वर्तमान के सभी पापों का बलिदान उसके रूप में दिया जा सके. 

Merry Christmas 

Christmas
Source: cbsnews

क्रिसमस डे(Christmas Day) ईशू को याद करने और उनकी पूजा का दिन है. क्रिसमस के दिन ईसा मसीह की प्रशंसा में लोग कैरोल गाते हैं. वे प्‍यार व भाईचारे का संदेश देते हुए घर-घर जाते हैं. विदेशों में क्रिसमस से पहले ही लोगों और बच्चों की स्कूल, कॉलेज और ऑफिस से छुट्टियां कर दी जाती हैं. विदेशों इस पर्व की धूम बाज़ारों और गलियों में भी दिखाई देने लगता है. मार्केट और सड़के क्रिसमस ट्री और लड़ियों से जगमगा उठती हैं. 

Christ
Source: indianexpress

24 दिसंबर को लोग ईस्टर ईव मनाते हैं और 25 दिसंबर को घर और बाहर पार्टी करते हैं. 25 दिसंबर से शुरु होकर क्रिसमस का त्यौहार 5 जनवरी तक चलता है. यूरोप में 12 दिनों तक मनाए जाने वाले इस त्यौहार को Twelfth Night के नाम से भी जाना जाता है. सभी इस दिन एक दूसरे को Merry Christmas कहते हैं.

क्या है सैंटा क्लॉज़ का इतिहास?(Santa Claus History)

Christmas Day Importance
Source: easemytrip

क्रिसमस यानी ईसा मसीह के जन्मदिन और सैंटा का कोई कनेक्‍शन नहीं है. सैंटा क्लॉज़(Santa Claus) की उत्‍पत्ति के बारे में किसी को पता नहीं, लोग मानते है संत निकोलस ही सैंटा का असल रूप हैं. Quora के अनुसार, सैंटा क्लॉज़ का जन्म आख़िरी बाईबल लिखे जाने के 100 साल बाद हुआ था. इसलिए उनका ज़िक्र बाईबल में नहीं है. सैंटा उर्फ़ संत निकोलस का जन्म 270AD में हुआ था.

Saint Nicholas
Source: britannica

सैंटा क्लॉज़ नाम Saint Nicholas से निकला है. डच भाषा में इसे Sinter Klass कहा जाता है, यहां Sinter संत और Klass का मतलब Nicholas है. जब डच अमेरिका पहुंचे, तो वहां के लोगों ने Sinter Klass को सैंटा क्लॉज़ पुकारना शुरू कर दिया. इस तरह Saint Nicholas सैंटा क्लॉज़ बन गए. Saint Nicholas एक ग्रीक बिशप थे. वो लोगों के बीच अपनी दयालुता के लिए बहुत फ़ेमस थे. उनसे किसी का भी दुख देखा नहीं जाता था. 

Santa Claus
Source: justquikr

इसलिए वो रात को छुपकर लोगों को गिफ़्ट दिया करते थे. बच्चों और ज़रूरतमंदों को गिफ़्ट दे कर उन्हें शांति महसूस होती थी. उनसे जुड़ी जूते और जु़राब में रखे सोने के सिक्कों की कई कहानियां तब सुनने को मिलती थी. इसलिए आज भी कहा जाता है कि सैंटा क्लॉज़ आएंगे और बच्चों की जु़राबों और जूतों में गिफ़्ट रख कर चले जाएंगे.

Merry Christmas 

X-Mas
Source: pinewhispers

यहीं से पूरी दुनिया में क्रिसमस के दिन मोज़े में गिफ़्ट देने यानी सीक्रेट सैंटा(Secret Santa) बनने का रिवाज़ शुरू हुआ था. दुनियाभर में लोग ऑफ़िस और अपने घरों में क्रिसमस पर सीक्रेट सैंटा का आयोजन भी करते हैं. इसमें वो अपने प्रियजनों को चुपके से सीक्रेट गिफ़्ट देकर ख़ुशियां बांटने की कोशिश करते हैं और सबको Merry Christmas विश करते हैं.

क्रिसमस ट्री का इतिहास क्या है?(Christmas Tree History)

Christmas Tree
Source: forumdaily

क्रिसमस के दिन क्रिसमस ट्री(Christmas Tree) को सजाने का रिवाज़ है. क्रिसमस ट्री की शुरुआत उत्तरी यूरोप में हज़ारों सालों पहले हुई थी. उस दौरान 'Fir' नाम के पेड़ को सजाकर इस त्यौहार को मनाया जाता था. 16वीं सदी में जर्मनी में भी क्रिसमस ट्री को सजाने का उल्लेख मिलता है. इसके अलावा बहुत से लोग चेरी के पेड़ की टहनियों को भी क्रिसमस के वक्त सजाया करते थे. ग़रीब लोग जो इन पौधों को ख़रीद नहीं पाते थे वो लकड़ी को पिरामिड का शेप देकर क्रिसमस मनाया करते थे.

X-Mas Tree
Source: hearstapps

इसके साथ ही क्रिसमस ट्री(X-Mas Tree) को सजाने की परंपरा चल पड़ी. क्रिसमस का जो ट्री होता है वो सदाबहार होता है और उसकी पत्तियां कभी मुरझाती नहीं हैं. इस पेड़ को काटकर लोग अपने घर में लाते हैं और कैंडी, चॉकलेट, रिबन, गिफ़्ट, लाइट्स, बेल्स से सज़ाते हैं. 

Merry Christmas!