एक पेंटिंग को अकसर शब्दों से ज़्यादा महत्व इसलिए दिया जाता है क्योंकि वो बिना कहे भी बहुत कुछ कह जाती है. शब्दों के बिना भी वो इंसान को स्तब्ध करने का माद्दा रखती है. और अगर आप ये सोचते हैं कि कई सालों के एक्सपीरियंस के बाद ये किसी पेंटर में ये सोच आती है, जो आपको 19 साल की Emma Krenzer के बारे में पढ़ना चाहिए.

Emma ने इस वक़्त सोशल मीडिया पर तहलका मचाया हुआ है. ख़ुद को Feminist मानने वाली Emma, अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प के खिलाफ़ Women March से वापस लौटी थी. उसके दिमाग में उसी रात एक आईडिया आया. उसने अपनी दोस्त की एक पिक्चर खिंची और उस पिक्चर का प्रिंट आउट लेकर उस पर पेंटिंग की.

ये थी वो पेंटिंग, जो रातों-रात Sexual Assault, शारीरिक उत्पीड़न के प्रभाव को समझाने का जरिया बन गई.

इसे देख कर अभी आपको शायद समझ न आये कि ये क्या है, दरअसल Emma ने अपनी फ्रेंड की तस्वीर पर अलग-अलग कलर से पेंट करके एक औरत के शरीर को छूने Touches को समझाया था. उसने हर कलर को किसी के द्वारा किये गए टच में परिभाषित कर दिया. जैसे Purple (ये दिखने में काला लग रहा होगा) रंग एक लड़की के शरीर पर उसकी मां का टच दर्शाता है, वहीं लाल रंग उसके शरीर पर हुए शारीरिक उत्पीड़न को दर्शाता है (जिन लोगों को उसने NO कहा था).

जैसे ही ये पोस्ट सोशल मीडिया पर गया, इसे लोगों ने मिनटों में फ़ैला दिया. लोगों को Emma की ये पेंटिंग बहुत ज़्यादा पसंद आई और उन्होंने Emma को शारीरिक शोषण जैसे Issue को इतने बेहतरीन तरीके से दर्शाने के लिए धन्यावाद दिया.

Source: Bored Panda