हमारे देश में प्रतिभा की कमी नहीं हैं, तभी तो आये दिन छोटे-छोटे बच्चे ऐसे-ऐसे कमाल कर देते हैं और पूरी दुनिया में देश का नाम रौशन करते है. कभी कोई अभी हाल ही में एक खबर आई थी कि तमिलनाडु के दसवीं कक्षा के स्टूडेंट ने साइलेंट हार्ट अटैक को पहचाने की एक डिवाइस बनाई है. अब ये खबर आ रही है कि अरुणाचल प्रदेश के एक स्टूडेंट ने एक ऐसा चश्मा बनाया है, जिसकी मदद से अब दृष्टिहीन स्टिक का सहारा लिए बगैर चल सकेंगे.

Source: mirror

ख़बरों के मुताबिक़, अनंग तदार, जो कि 11वीं कक्षा के छात्र हैं और अरुणाचल प्रदेश के रहने वाले हैं ने पार्किंग सेंसर तकनीक का उपयोग कर ऐसा चश्मा बनाया है जो नेत्रहीनों के लिए काफ़ी मददगार साबित होगा. अनंग तदार लंबे समय से अभिनव प्रौद्योगिक पर काम कर रहे हैं. अब वो इस चश्मे जिसे G4B (गॉगल फॉर ब्लाइंड) नाम दिया है, का बड़े पैमाने पर निर्माण करना चाहते हैं. इस चश्मे का उपयोग करने से दृष्टिहीनों के लिए आगे बढ़ना आसान हो जाएगा.

Source: indiatimes

अनंग बताते हैं कि यह तकनीक ईको लोकशन के आधार पर काम करती है. इसके अलावा इसमें नेविगेशन सिस्टम का भी उपयोग किया गया है. अनंग तदार ने हाल ही गुवाहटी में आयोजित साइंस फेस्टिवल में अपने इस गॉगल का प्रदर्शन करके दिखाया. इसके साथ ही अनंग ने बताया कि जिस तरह कारो में पार्किंग सेंसर तकनीक का उपयोग किया जाता है, उसी आधार पर इस चश्मे को भी तैयार किया गया है. जैसे ही कोई बड़ी चीज़ या ऑब्जेक्ट इस चश्मे के पास आएगा, इसकी बीप ऑन हो जायेगी और व्यक्ति अलर्ट हो जाएगा.

Source: thenortheasttoday

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अनंग एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं और वो निर्जुली में स्थित न्यू गैलेक्सी एकैडमी में पढ़ते हैं. हाल ही में अनंग को G4B गैजेट का आविष्कार करने के लिए Dinanath Pandey Smart Idea Innovation Award से भी सम्मानित किया जा चुका है.

Source: wp

इस चश्मे को मार्किट में लॉन्च करने की अनंग की लगन को देखकर और उसके इस इनोवेशन से प्रभावित होकर विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन ने उससे इस गैजेट और कुछ और प्रोटोटाइप बनाने के लिए कहा है, ताकि उनको देखने में अक्षम लोगों पर टेस्ट किया जा सके.

Source: indiatimes

गौरतलब है कि अनंग ने बीते शुक्रवार को अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू के सामने अपने इस यूनिक गॉगल का प्रदर्शन किया. प्रदर्शन करने के दौरान ही अनंग ने सीएम को बताया कि वो तब से इस चश्मे पर काम कर रहे हैं, जब कुछ सालों पहले सने एक दृष्टिहीन लड़की को देखा था. सीएम ने इस गैजेट के प्रोटोटाइप बनाने के लिए अनंग को आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है. इतना ही नहीं राज्य सरकार ने भी होनहार अनंग के इस प्रोडक्ट की काफ़ी प्रशंसा की है.

Source: indiatimes