दिल-दहला देने वाली एक खबर मलेशिया से आ रही है कि एक स्कूल की वार्डन ने एक बच्चे को इतना मारा की उसका पैर ही काटना पड़ा. दुर्व्यवहार के एक चौंकाने वाले मामले में मलेशिया के एक प्राइवेट इस्लामिक स्कूल में एक 11 साल के बच्चे को असिस्टेंट वार्डन द्वारा पानी के पाइप से बार-बार पीटा गया.

Source: stomp

रिपोर्ट्स के अनुसार, बीते शुक्रवार को इन्फ़ेक्शन को रोकने के लिए इस लड़के का पैर काट दिया गया, क्योंकि अगर इन्फ़ेक्शन को रोका नहीं जाता, तो पूरी संभावना थी कि उसका हाथ भी काटना पड़ जाता.

Source: http:/stomp

New Strait Times की रिपोर्ट के अनुसार, ये बात सामने आयी है कि इस मासूम लड़के की मां, Felda Wani Ahmad को इस्लामिक 'तहफ़ीज़' बोर्डिंग स्कूल में अपने बेटे के उसके ऊपर काफ़ी दिनों से हो रहे इस अत्याचार के बारे में पहले से ही पता था.

Source: indiatimes
Felda Wani Ahmad बताती हैं, '31 मर्च को मैं अपने बेटे से मिलने आयी थी और उसको देखकर मैंने उसको Johor Baru में स्थित अपने घर वापस ले जाने का फ़ैसला किया था. उस वक़्त वो बहुत कमज़ोर और बहुत ज़्यादा परेशान दिख रहा था.'

बच्चे की प्राइवेट डायरी में लिखी बातों से इस बात का खुलासा हुआ कि पिछले कई दिनों से उसको प्रताड़ित किया जा रहा था. उसने अपनी डायरी में लिखा था, 'अगर स्कूल के किसी एक स्टूडेंट ने गलती की है, तो सभी स्टूडेंट्स को सामूहिक रूप से दंडित किया जाएगा.

Source: indiatimes

The Federation of National Associations of al-Quran Tahfiz Institutions (Pinta), के एक गठबंधन ग्रुप ने इस घटना के सीसीटीवी फुटेज का विश्लेषण किया और कहा 'हमने सीसीटीवी फुटेज को देखा है और पाया कि इस 11 साल के स्टूडेंट के केवल एक पैर पर ही बार-बार मारा गया था.'

Source: stomp

सीसीटीवी फुटेज के देखने के बाद इसमें स्कूल की असिस्टेंट वार्डन को दोषी पाया गया है. बच्चे पर बुरी तरह से अत्याचार करने वाली इस वार्डन को प्राधिकारीयों द्वारा गिरफ़्तार कर लिया गया है. साथ ही मलेशिया सरकार ने वहां के धार्मिक स्कूलों पर निगरानी रखने के लिए एक सख्त नियम बनाया है.

The Star के अनुसार, इस बच्चे के पिता ने इस बात की पुष्टि की है कि Hospital Sultan Ismail में उनके बेटे का इलाज चल रहा था, लेकिन बीते बुधवार (26 अप्रैल) दोपहर के 2:05 पर उसका निधन हो गया. हालांकि, उसकी सलामती के लिए प्रार्थना की जा रही थी.

इसके साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि उनके बेटे Mohamad Thaqif Amin Mohd Gaddaf का 26 अप्रैल को एक हाथ भी काटा जाना था, क्योंकि उसमें में इन्फेक्शन हो गया था, लेकिन उसकी अस्थिर हालत की वजह से सर्जरी को कैंसिल कर दिया गया.

Source: indiatimes